नव विवाहिता को दहेज लोभीओं ने किया आग के हवाले, इलाज के दौरान मौत

शेयर करें:

दमोह। कोरोना वायरस संक्रमण की दहशत भी दहेजलोभियों के दहेज लेने की चाहत को कम नही कर पा रही है। ताजा मामला दमोह का है जहाँ दहेज की लालच में 22 साल की युवती को उसके ससुराल पक्ष के लोगो ने आग लगाकर जिंदा जला दिया। करीब 80 प्रतिशत तक झुलसी विनीता की आज मेडिकल कॉलेज में उपचार के दौरान मौत हो गई|

मृतिका विनीता के भाई कमल सिंह ने बताया कि जून 2019 में उन्होंने अपनी बहन की शादी तेजगढ़ निवासी दीपक कुमार से की थी। शादी के बाद से ही लगातार विनीता को दहेज के लिए परेशान किया जा रहा था इतना ही नहीं कई बार उसे मारपीट कर रुपए लाने के लिए घर भी भेजा गया। विनीता के कहने पर भाइयों ने दीपक को रुपए भी दिए।

हाल ही में दीपक ने एक बार फिर एक लाख रु नगद और मोटरसाइकिल मांग करते हुए विनीता के साथ मारपीट की तब भी विनीता अपने परिवार वालो से रु मांगने को तैयार नही हुई तो उसे आग के हवाले कर दिया।

विनीता के परिजनों का आरोप है कि उसे जलाने के बाद पति और परिवार के अन्य सदस्य इलाज के लिए उसे दमोह ले गए जहां डॉक्टरों ने विनीता की हालत गंभीर देखते हुए मेडिकल कॉलेज रिफर कर दिया।दो दिन पहले जबलपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती हुई विनीता की आज मौत हो गई।

परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने जांच की शुरू 
इधर विनीता की मौत से आक्रोशित उसके परिजनों ने मौत के लिए उसके पति दीपक और ससुराल पक्ष के अन्य लोगों को जिम्मेदार ठहराया है।वही परिजनों की शिकायत पर दमोह पुलिस अब इस पूरे घटनाक्रम की जांच में जुट गई है।