Skip to content

दमोह जिला अस्पताल में ही रहते हैं डॉक्टर्स

इस ख़बर को शेयर करें:

भोपाल  दमोह जिले में डॉक्टर्स और उनके साथी स्टाफ दिन-रात काम में जुटे हैं। जिला महामारी नियंत्रण की जिम्मेवारी संभाल रही सिविल सर्जन डॉ ममता तिमोरी, नाक-कान, गला रोग विशेषज्ञ डॉ. विशाल शुक्ला, शिशु रोग विशेषज्ञ, डॉ. राजेश नामदेव और आर.एम.डी. डॉ दिवाकर पटेल बीते कई दिनों से अपने परिजनों से अलग लगातार ड्यूटी के बाद जिला चिकित्सालय परिसर में ही अपना आश्रय बनाकर सेवाएं दे रहे हैं।

सिविल सर्जन डॉ. ममता तिमोरी ने कहा कि कोविड-19 की चिंता करने की जरूरत नहीं है। सावधानियां ही इसका उपचार है। मास्क लगाकर रखें, बार-बार हाथ धोयें। उन्होंने कहा मेरा हेडक्वार्टर जिला चिकित्सालय कैंपस के अंदर ही है। तीन अन्य डॉक्टर की टीम ने भी अपना हेड क्वार्टर जिला अस्पताल में ही बनाकर लोगों को 24 घंटे सेवा देने का फैसला किया है। टीम में डॉ दिवाकर पटेल, डॉ विशाल शुक्ला, डॉ राजेश नामदेव शामिल है।

डॉ. विशाल शुक्ला ने कहा कि जब से कोरोना संकट हमारे देश-प्रदेश में हुआ है, तभी से जिला अस्पताल में भी संक्रमण से बचाव के लिए तैयारियां चल रही हैं। हम डॉक्टर्स हैं अस्पताल में ही 24 घंटे ड्यूटी करते रहते हैं, ताकि लोगों को त्वरित सेवा दे सकें। डॉ. राजेश नामदेव शिशु रोग विशेषज्ञ बताते हैं कि घर परिवार से दूर रहकर इसलिये काम कर रहे है ताकि घर के लोगों को इंफेक्शन का खतरा ना रहे।

ज्यादा पसंद की गई खबरें:

संभागायुक्त ने जबेरा में समर्थन मूल्य पर खरीदी का जायजा लिया
शासकीय सेवकों द्वारा किये जाने वाले समस्त आवेदन की प्रक्रिया ऑनलाइन-कलेक्टर डॉ.शर्मा
सतधरू और भूरी सिंचाई परियोजना से पूरा क्षेत्र सिंचित हो जायेगा - वित्तमंत्री मलैया
सड़कों पर पेंटिंग के द्वारा लॉक डाउन का पालन करने के लिए सीख दे रही है पुलिस
किशोर न्याय अधिनियम 2015 एवं पाक्सो एक्ट के संबंध मे मीडिया एवं स्वयंसेवी प्रतिनिधियों की एक दिवसीय ...
एनजीटी का 29-30 जुलाई को भोपाल में क्षेत्रीय सम्मेलन
बुजुर्गों की सेवा और सुरक्षा के समुचित प्रबंध होंगे- मुख्यमंत्री चौहान
दमोह : बच्चों का धर्म परिवर्तन कराने का आरोप में ईसाई संगठन के 10 सदस्यों पर मामला दर्ज
इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर सरकार प्रतिबंध क्यों लगा रही है? दुनिया के सबसे गंदे इंसान’ अमो हाजी की 94 वर्ष की आयु में मृत्यु अनहोनी के डर से इस गांव में सदियों से नहीं मनाई गई दिवाली धनतेरस के दिन क्यों खरीदते हैं सोना-चांदी और बर्तन? पुराने डीजल या पेट्रोल वाहनों को रेट्रोफिटिंग करवाने से क्या होगा ?