पैसे लेके नहीं बना रहा आवास, संबंधित ठेकेदार पर कराओ एफआईआर – सीईओ जिला पंचायत

शेयर करें:

कटनी @ बहोरीबंद विकासखण्ड के गांव सूमाकला, बुधनवारा, पहाड़ीखेड़ा और उदयपुरा में शनिवार को सीईओ जिला पंचायत पहुंचे। जहां उन्होने ग्रामीण विकास के कार्यों का जायजा लिया। विजिट के दौरान जहां भी उन्हें काम में उदासीनता दिखी, वहां उन्होने फटकार लगाई। जहां शासकीय सेवक की कमी दिखी, वहां कार्यवाही भी सीईओ जिला पंचायत ने अपने दौरे में की।

दौरे में सबसे पहले नोबल सूमाकला पहुंचे। जहां उन्होने प्राथमिक शाला और माध्यमिक शाला का निरीक्षण किया। इस दौरान उन्होने शिक्षक को विद्यार्थियों की उपस्थिति संधारित कर भेजने के निर्देश दिये। इसके बाद पहाड़ीखेड़ा में सुदूर सड़क का निरीक्षण सीईओ जिला पंचायत ने किया। साथ ही प्रधानमंत्री आवास भी उन्होने देखे। विजिट में यह तथ्य सामने आया कि तीन प्रधानमंत्री आवास अब तक अपूर्ण है। द्वितीय किश्त अब तक हितग्राही को नहीं मिली है। जिस पर सुपरवाईजर को सीईओ जिला पंचायत ने जमकर फटकारा। साथ ही शीघ्र ही जियोटैग कर द्वितीय किश्त दिलाने के निर्देश दिये।

मनरेगा में कार्य के लिये ऑनलाईन 124 मजदूरों का मस्टर जारी करने के बाद भी स्पॉट पर एक भी मजदूर ना मिलने पर मौके पर ही नोबल ने सचिव की क्लास ली। उन्होने सचिव के निलंबन की कार्यवाही करने के लिये भी निर्देशित किया। ग्रामीणों द्वारा पेयजल की समस्या भी सीईओ जिला पंचायत को बताई गई। जिसमें यह बात सामने आई कि 5 हैंडपम्प में से मात्र एक ही हैंडपंप चल रहा है। शेष हैंडपंप को दुरुस्त करने के निर्देश ईई पीएचई को सीईओ जिला पंचायत ने दिये।

पहाड़ीखेड़ा में यह तथ्य भी सामने निकलकर आया कि चेती बाई को प्रधानमंत्री आवास स्वीकृत हुआ था। आवास निर्माण के लिये प्राप्त राशि उसने ठेकेदार संदीप मेहरा को दी। लेकिन संबंधित ठेकेदार के द्वारा निर्माण कार्य नहीं कराया जा रहा है। जिस पर दोषी ठेकेदार के विरुद्ध एफआईआर कराने के निर्देश सीईओ जिला पंचायत नोबल ने दिये।

वृक्षारोपण के कार्य का जायजा भी नोबल ने लिया। पौधरक्षको को शेष मजदूरी के भुगतान के निर्देश भी उन्होने दिये। उन्होने सीसी रोड भी देखी। सोने लाल पिता कोदू लाल के द्वारा तूफान में आवास गिर जाने की शिकायत की गई। जिस पर तहसीलदार को जांच कर आवश्यक सहयोग के लिये भी सीईओ जिला पंचायत ने निर्देशित किया।

बुधनवारा में 10 लाख की लागत से निर्माणाधीन तालाब का कार्य बंद होने पर भी सीईओ जिला पंचायत ने नाराजगी जाहिर की। सचिव को जानकारी ना होने और जीआरएस के अनुपस्थित रहने पर नोबल जमकर बिफरे। उन्होने अनुपस्थित जीआरएस को आधे दिन का अवैतनिक करने के निर्देश दिये।

इस दौरान प्रधानमंत्री आवास के चार हितग्राहियों का जियोटैग पंजीयन के बाद ना होने की बात सामने आई। जिस पर केसरी सेन, नर्मदा बाई, गुमान सिंह और गुलजार के घरों में पहुंचकर अपने सामने जियोटैग की कार्यवाही सीईओ जिला पंचायत नोबल ने कराई। उदयपुरा में सीसी रोड कंप्लीट होने के बाद भी सीसी जारी ना करना संबंधित उपयंत्री को भारी पड़ा। नोबल ने संबंधित उपयंत्री को एससीएन जारी करने के निर्देश दिये।