बरेला अंतर्गत दोहरी अंधी हत्या का खुलासा: प्रेम प्रसंग में बाधा डालने वाली जेठानी एवं भतीजी की देवरानी ने प्रेमी के साथ मिलकर करायी थी हत्या

शेयर करें:

जबलपुर। बरेला अंतर्गत दोहरी अंधी हत्या का खुलासा सामने आया है जिसमे प्रेम प्रसंग में बाधा डालने वाली जेठानी एवं भतीजी की देवरानी ने प्रेमी के साथ मिलकर करायी थी हत्या, आरोपी देवरानी, एवं प्रेमी तथा प्रेमी का 1 साथी गिरफ्तार किया गया है। घटना 30 सितम्बर की है आशीष झारिया निवासी ग्राम टेमरभीटा थाना गोराबाजार ने रिपोर्ट दर्ज कराया कि उसकी बहन बबीता उर्फ बबली झारिया की शादी वार्ड क्र 15 बरेला मे हुई थी जिनके पति नरेश झारिया की 20 वर्ष पूर्व मृत्यु हो चुकी है बहन की लडकी निशा झारिया उम्र 20 वर्ष की है । बहन बबली झारिया आगनवाडी मे सहायिका है । दिनांक 27.09.21 के सुबह 8-9 बजे उसने अपनी बहन बबली झारिया से मोबाईल पर बात किया था। दिनांक 28.09.21 को जब उसने अपनी बहन बबली झारिया व बहन की लडकी निशा झारिया के मोबाईल पर फोन किया तो मोबाईल नंबर बंद बताया। दिनांक 29.09.21 को जब वह अपनी बहन बबली के घर बरेला पहुंचा तो देखा कि दीदी बबली के घर मे ताला लगा हुआ था, आस पास मोहल्ले मे पूछा तो लोगो ने बताया कि बबली व निशा को दिनांक 27.09.21 के रात्रि 09/00 बजे तक घर मे देखा गया है उसके बाद बबली व निशा झारिया घर मे नही दिखे । आस पडोस एवं रिश्तेदारी मे पता करने पर दोनो का पता नही चल रहा है। सूचना पर थाना बरेला मे गुमइंसान कायम कर जांच में लेते हुये घटित हुई घटना से वरिष्ठ अधिकारियों को अवगत कराया गया।

प्रकरण संदिग्ध प्रतीत होने पर पुलिस ने दिखाई गम्भीरता
घटित हुई घटना की जानकारी लगते ही पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) के निर्देश पर उप पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्रीमति अपूर्वा किलेदार, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर उत्तर/यातायात श्री संजय कुमार अग्रवाल, थाना बरेला पहुंचे। गुमशुदा का रहस्यमय ढंग से गुम हो जाने का प्रकरण संदिग्ध प्रतीत होने पर गम्भीरता से लेते हुये पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बहुगुणा (भा.पु.से.) द्वारा गुमशुदा की दस्तयाबी हेतु आदेशित किये जाने पर अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर उत्तर/यातायात श्री संजय कुमार अग्रवाल एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक शहर दक्षिण/अपराध श्री गोपाल खाण्डेल के मार्गदर्शन मे उप पुलिस अधीक्षक ग्रामीण श्रीमति अपूर्वा किलेदार की नेतृत्व मंे थाना बरेला स्टाफ एवं क्राईम ब्राचं की टीम गठित कर लगायी गयी।

आस पडोस वालो से मिली जानकारी
दौरान गुमशुदा की तलाश पतसाजी के गुमशुदा बबली झारिया के मायके पक्ष व आस पडोस वालो से जानकारी प्राप्त की गई तो पता चला कि बबली झारिया की देवरानी मालती झारिया का विगत 04 वर्षाे से काशी महगवां निवासी संजय उर्फ संजू श्रीपाल के साथ प्रेम प्रसंग था संजय, मालती झारिया के घर मे आता जाता था । मालती झारिया व बबली झारिया का मकान आजू बाजू में तथा एक ही आंगन है। संजू श्रीपाल के मालती झारिया के घर मे आने जाने की जानकारी आस पडोस व गांव मोहल्ले वालो को भी थी। संजू श्रीपाल के आने जाने की वजह से मालती झारिया व बबली झारिया के बीच आये दिन वाद विवाद लडाई झगडा होता रहता था।

पुलिस ने संदेही संजू श्रीपाल को दबोचा
संदेही संजू श्रीपाल को अभिरक्षा मे लेकर पूछतांछ की गयी तो संजू श्रीपाल ने बताया कि बबली झारिया ,उसके प्रेम प्रसंग मे बाधा डालती थी, तथा मालती झारिया के साथ बबली झारिया आये दिन वाद विवाद करती थी जिसका साथ बबली की बेटी निशा झारिया भी देती थी, जिस कारण प्रेम प्रसंग मे रास्ते का रोड़ा बन रही बबली झारिया व निशा झारिया की हत्या करने हेतु दिनांक 27.09.21 को उसने अपनी प्रेमिका मालती झारिया व साथी राजा कोल ,देवा ठाकुर के साथ मिलकर बबली झारिया व निशा झारिया को मारने की योजना बनायी तथा योजना के अनुसार रात्रि लगभग 10 बजे उसने अपने साथी देवा ठाकुर, राजा कोल के साथ मिलकर बबली के घर के अंदर घुसकर बबली झारिया व निशा झारिया की रस्सी से गला घोटकर हत्या कर दी व साक्ष्य छिपाने की नियत से घर को व्यवस्थ्ति कर दिया ताकि एैसा लगे कि बबली एवं निशा झारिया कहीं बाहर गयी हुई हैं एवं बबली व निशा के शव को एक चादर मे लपेटकर उसकी मोटर सायकिल मे लादकर काशी महगवां कैनाल पुल के पास कैनाल के किनारे गढ्ढे में दफना दिये। संजू श्रीपाल की निशादेही मे काशी महगवां कैनाल पुल के पास मृतिका बबली झारिया व निशा झारिया के शव का उत्खनन कार्यपालिक दंडाधिकारी /तहसीलदार की उपस्थित मे कराई गई व मृतिका बबीता उर्फ बबली झारिया व निशा झारिया के शव को बरामद कर पंचनामा कार्यवाही कर शव पीएम हेतु भिजवाते हुये अपक्र- 543 /2021 धारा-450,302,201,34 भादवि 3(2)5 एससी/एसटी एक्ट का अपराध पंजीबद्ध करते हुये श्रीमति मालती झारिया एवं राजा कोल को अभिरक्षा मे लेते हुये फरार देवा ठाकुर की सरगर्मी से तलाश जारी है।

उल्लेखनीय भूमिका – मॉ-बेटी की दोहरी अंधी घटना का खुलासा करने में वरिष्ठ अधिकारियों के मार्ग दर्शन में थाना प्रभारी बरेला श्री मुनेश लाल कोल, उप निरीक्षक रूकसार बानो, सहायक उप निरीक्षक चैन सिह धुर्वे ,आरक्षक मनोज, सूरज मिश्रा, तनवीर रिजवी, महेन्द कुमार, महिला आरक्षक सावित्री धुर्वे, प्रतिमा मिश्रा, एवं क्राईम ब्रांच के सहायक उप निरीक्षक धनंजय सिह, विजय शुक्ला, प्रधान आरक्षक विजेन्द्र, दीपक तिवारी, मोहित उपाध्याय, बीरबल एवं सायबर सेल के आरक्षक अमित पटेल की सराहनीय भूमिका रही।