अगर आप घूमने के शौकीन है तो अब पूरे देश में आपके घूमने का खर्चा उठाएगी केंद्र सरकार

शेयर करें:

#DekhoApnaDesh : अगर आप घूमने के शौकीन है और आपके पास पैसों की कमी है तो चिंता करने की कोई बात नहीं, क्योंकि मोदी सरकार (Modi Government) ने एक ऐसी योजना (Scheme) शुरु की है, जिसमें आपके घूमने का पूरा खर्चा भारत सरकार (Indian Government) उठाएगी. केंद्र की मोदी सरकार ने ये योजना देश में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए शुरु की है. इस स्कीम का लाभ भारत का कोई भी नागरिक (Citizen) उठा सकता है. इस कार्यक्रम के तहत साल 2022 तक आपको अपने गृह प्रदेश को छोड़कर अन्य प्रदेशों के 15 पर्यटन स्थलों की यात्रा करनी होगी.

भारत सरकार इस यात्रा का पूरा खर्च उठाएगी. पर्यटन मंत्रालय ने ‘देखो अपना देश’ (Dekho Apna Desh) कार्यक्रम शुरू किया है. इस कार्यक्रम की डिटेल वेबसाइट पर दी गई है. ‘देखो अपना देश’ (Dekho Apna Desh) प्रोग्राम के तहत साल 2022 तक कम से कम 15 पर्यटन स्थलों की यात्रा करनी होगी.

इसकी कार्यक्रम की जानकारी देते हुए केंद्रीय पर्यटन मंत्री (Union Tourism Minister) प्रह्लाद सिंह पटेल (Prahlad Singh Patel) ने ओडिशा (Odisha) के कोर्णाक (Konark) में राष्ट्रीय पर्यटन सम्मेलन में दी. इस दौरान पटेल ने कहा कि पर्यटन मंत्रालय एक साल में देश के 15 स्थलों पर जाने वाले पर्यटकों का यात्रा खर्च और फोटो हमारी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी.

बता दें कि यात्रियों को एक साल में 15 पर्यटन स्थल घूमने होंगे. ये योजना 2022 तक लागू है. यानी अगर आप अपनी यात्रा को कभी भी शुरू कर सकते हैं. हालांकि यात्रा शुरु करने के एक साल के अंदर इस यात्रा को पूरा करना होगा. फिर एक साल में किसी भी 15 पर्यटन स्थलों पर जाने के बाद वेबसाइट https://pledge.mygov.in/my-country/ पर अपनी फोटो अपलोड करनी होगी.

बता दें कि इन खर्चों को मॉनेटरी लाभ के लिए नहीं, बल्कि प्रोत्साहन राशि के रूप में लिया जाना चाहिए. पर्यटन मंत्री का कहना है कि कोणार्क में सूर्य मंदिर (Sun Temple) को प्रतिष्ठित स्थलों की लिस्ट में शामिल किया जाएगा. इसके अलावा पर्यटन की एडिशनल डायरेक्टर रूपिंदर बराड़ ने कहा कि मंत्रालय पर्यटन गाइड के रूप में काम के इच्छुक कैंडिडेट्स के लिए एक सार्टिफिकेट प्रोग्राम आयोजित करती रही है, लेकिन इस प्रोग्राम में ओडिशा की भागीदारी बहुत कम है और इसे बढ़ाने की जरूरत है.

इसके अलावा पर्यटन की एडिशनल डायरेक्टर रूपिंदर बराड़ ने कहा कि मंत्रालय पर्यटन गाइड के रूप में काम के इच्छुक कैंडिडेट्स के लिए एक सार्टिफिकेट प्रोग्राम आयोजित करती रही है, लेकिन इस प्रोग्राम में ओडिशा की भागीदारी बहुत कम है और इसे बढ़ाने की जरूरत है.