Skip to content

Daily News 11 March 2022 जंक फूड के विज्ञापनों पर लगेगी लगाम II पाकिस्तान का दावा- उसकी सीमा में घुसी भारतीय मिसाइल

Tags:
इस ख़बर को शेयर करें:

UP Election 2022 Results: यूपी में योगी की जीत पर BJP का ‘बुल्डोजर’ जश्न , कई शहरों में निकली रैली
उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में बीजेपी की जीत के साथ ही बुल्डोजर एक बार फिर से सुर्खियों में आ गया है. यूपी में योगी की वापसी पर जगह-जगह जश्न का माहौल है. इस दौरान गोरखपुर, लखनऊ, कानपुर समेत यूपी के कई शहरों में बाबा की जीत पर लोगों ने बुल्डोजर रैली निकाली. इस रैली में बीजेपी समर्थकों ने सीएम योगी को ‘बुल्डोजर बाबा’ (BulldozerBaba) संबोधित करते हुए नारे लगा रहे हैं.
वहीं एक दूसरी तस्वीर में सेल्फी विवाद में घिरने वाली कानपुर की मेयर प्रमिला पांडे ने भी बुल्डोजर पर सवार होकर भाजपा की जीत का जश्न मनाया. कुछ ऐसी ही तस्वीरें लखनऊ और वाराणसी में भी देखने को मिली, यहां भी बाबा के समर्थक बुल्डोजर पर सवार होकर जश्न मनाते हुए दिखे. बता दें कि चुनावी रैलियों में सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने सीएम योगी पर निशाना साधते हुए उन्हें बाबा बुल्डोजर कहकर संबोधित किया था. हालांकि अखिलेश यादव का यह बयान सीएम योगी को चिढ़ाने के बजाय उनके फेवर में ही चला गया. भाजपा ने इसे माफियाओं और गुड़ों को खत्म करने वाला बुल्डोजर बताया.

UP Election Result: ‘योगीराज’ रिटर्न पर स्मृति का जनता को धन्यवाद, कहा प्रियंका ने कांग्रेस को फूंक दिया
उत्तर प्रदेश विधानसाभा चुनाव में एक बार फिर से BJP ने प्रचंड बहुमत हासिल किया है. बीजेपी की इस शानदार जीत पर पार्टी के कई बड़े नेताओं का रिएक्शन भी सामने आया है. BJP की फायरब्रांड नेता और अमेठी की सांसद स्मृति इरानी ने पार्टी की जीत पर यूपी की जनता को धन्यवाद देते हुए कांग्रेस और प्रियंका गांधी पर निशाना भी साधा है. मीडिया से मुखातिब होते हुए इरानी ने कहा कि, मैं जनता के लिए कृतज्ञता का भाव प्रकट करती हूं कि उसने यूपी में BJP को अभूतपूर्व विजय का आशीर्वाद दिया है. इस जीत से यह साफ हो जाता है कि जनता ने प्राधनमंत्री जी के अह्वाहन परिवारवाद के बदले राष्ट्रवाद और विकास की राजनीति को अपना समर्थन दिया. राहुल गांधी के ट्वीट पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि, मुझे नहीं लगता है कि राहुल गांधी अपनी गलतियों से सीखेंगे. यह कहा जा रहा था कि प्रियंका गांधी आएंगी पार्टी में नई जान फूंकेंगी, लेकिन उन्होंने पार्टी को ही फूंक दिया.

कॉमेडियन से कैसे ‘किंग’ बने भगवंत मान… ‘गुरु’ का किया बेड़ागर्क!
देश के इतिहास में पहली बार हुआ है, जब एक कॉमेडियन किसी राज्य का मुख्यमंत्री बनने जा रहा है. इस तस्वीर को देखिए… भगवंत मान (Bhagwant Mann) अपनी मां के आंसू पोछ रहे हैं. यह आंसू गवाह हैं.. सफलता के पीछे के संघर्ष का. सालों पहले एक कॉमेडी परफॉर्मेंस के दौरान भगवंत मान ने अपने करियर को लेकर भविष्यवाणी की थी. जो आज सही साबित हो गई है. यह भी संयोग ही है कि बतौर कॉमेडियन संघर्ष के दिनों में उनके सामने नवजोत सिंह सिद्धू हुआ करते थे. हालांकि तब सिद्धू उनके जज थे. लेकिन इस बार मुकाबला सीधा था. फर्क सिर्फ इतना है कि तब सिद्धू कुर्सी पर बैठते थे और अब बैठेंगे भगवंत मान… भगवंत मान के लिए सीएम कुर्सी पर पहुंचने तक का सफर आसान नहीं था. उन पर शराबी होने का आरोप लगा, संसद भवन की सुरक्षा की अनदेखी के आरोप में लोकसभा में निलंबन झेलना पड़ा… सीएम चन्नी ने चुनावी रैली के दौरान भी भगवंत मान को नहीं बख्शा….
पंजाब की धूरी विधान सभा से आम आदमी पार्टी के मुख्यमंत्री पद के चेहरे भगवंत मान ने 38000 से ज्यादा वोटों से जीत दर्ज की है. राजनीति पारी की शुरुआत उन्होंने मनप्रीत सिंह बादल की पार्टी पंजाब पीपल्स पार्टी से की थी. वो साल 2012 में लहरा विधान सभा सीट से चुनाव लड़े थे, लेकिन असफल रहे. इसके बाद मनप्रीत कांग्रेस में शामिल हो गए और भगवंत मान आम आदमी पार्टी में आ गए. 2014 में भगवंत मान आम आदमी पार्टी से जुड़े और संगरूर लोक सभा सीट से आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनावी मैदान में अपने नाम का डंका बजवा दिया था. यहां वो 2 लाख से ज्यादा वोटों से जीते थे. भगवंत मान का जन्म 17 अक्टूबर 1973 को पंजाब के संगरूर जिले के सतोज गांव में हुआ था. उन्होंने संगरूर स्थित एसयूएस कॉलेज से बीकॉम किया है. कॉमर्स के क्षेत्र में ग्रेजुएशन करने के बाद मान नौकरी या बिजनेस से दूर रहे क्योंकि वह कुछ हटकर करना चाहते थे. भगवंत मान कॉमेडी से लेकर राजनीति तक हर जगह अपन अनाम बना चुके हैं लेकिन आज भी वो अपने घरवालों के लिए जुगनू हैं. भगवंत मान की शादी इंद्रप्रीत कौर से हुई थी. हालांकि 2015 में दोनों अलग हो गए. दोनों के दो बच्चे हैं.

UP में जीत के बाद BJP का अनोखा जश्न, कार्यकर्ता ‘बुल्डोजर’ लेकर पहुंचे पार्टी कार्यालय
पांच राज्यों के चुनाव में बीजेपी (BJP) ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 4 राज्यों में जीत दर्ज की है. यूपी (Uttar Pradsesh) में बीजेपी के जीत के बाद लखनऊ में पार्टी कार्यालय के बाहर अनोखा जश्‍न मनाया. बीजेपी कार्यकर्ताओं ने बुल्‍डोजर पर सवार होकर जीत का जश्न मनाया. बता दें कि यूपी चुनाव बुल्डोजर की जमकर चर्चा हुई थी.
मणिपुर (Manipur) में जीत के बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं ने इंफाल में जमकर जश्न मनाया. इंफाल में महिला कार्यकता परपंरागत तरीके से जश्न मनाती नजर आईं. उत्तराखंड (uttarakhand) में भी बीजेपी ने जीत के बाद जमकर जश्न मनाया. पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) ने बीजेपी ऑफिस में जीत का जश्न मनाया. यहां बीजेपी ने जीत से पहले होली मनाई, नेता एक दूसरे को गुलाल लगाते नजर आए.

Punjab election 2022 result: पंजाब में आप की सुनामी आने के पीछे हैं ये 5 बड़ी वजहें
पंजाब (Punjab) में आप (AAP) की आंधी में सारी पार्टियां उड़ गई हैं. पंजाब में शानदार जीत दर्ज करने के साथ ही आम आदमी पार्टी दो राज्यों में सरकार बनाने वाली पहली क्षेत्रीय पार्टी बन गई है. पंजाब में आप ने खुद को विकल्प के तौर पर मजबूती से पेश किया.आइए जानतें हैं किन 5 बड़ी वजहों से आप की पंजाब में सुनामी आई.

1-सत्ता विरोधी लहर और बंटी हुई कांग्रेस

पंजाब में बदलाव की सबसे बड़ी वजह 70 सालों से पंजाब में राज करने वाली दो पार्टियों के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर थी. कांग्रेस (Congress) की अंदरुनी कलह और पिछले साल कैप्टन अमरिंदर सिंह (Amrinder singh) और सिद्दधू (Navjot singh Singh) के बीच चल रही सियासी प्रतिद्वंद्विता एक सार्वजनिक झगड़े में तब्दील हो गई. इसने आप को पंजाब में मजबूती से खड़े होने को गोल्डन चांस दिया.

2-दलित वोटरों को पाले में नहीं ला सकी कांग्रेस

कांग्रेस ने कैप्टन अमरिंदर सिंह को हटाकर सीएम चरणजीत सिंह चन्नी (charan singh channi) को पंजाब का सीएम बनाया. लेकिन पार्टी दलित वोटों को अपने साथ लाने में विफल रही. पंजाब में नेतृत्व संकट ने भी वोटरों को आप की तरफ रूख अपनाने के लिए प्रेरित किया.

3- भगवंत मान को सीएम फेस बनाना
भगवंत मान (Bhagwant Mann) को सीएम फेस बनाना आप का मास्टर स्ट्रोक रहा. भगवंत मान ने लंबे समय से अपने राजनीतिक और सामाजिक व्यंग से पंजाबियों के दिल में राज किया है. भगवंत मान अपने राजनीतिक प्रतिद्वंदियों के विपरीत ग्राउंड में काफी जबरदस्त पकड़ रहते हैं. वो संगरूर लोकसभा सीट से दो बार लगातार जीत चुके हैं. उन्हें सिख समुदाय का समर्थन प्राप्त है.

4- शासन के तौर पर दिल्ली मॉडल को पेश करना
आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के शासन मॉडल को पंजाब के घोषणापत्र में शामिल किया. केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने पंजाब की जनता को सस्ती बिजली, पानी और स्वास्थ सुविधाओं का वादा किया. इसके साथ ही उन्होंने लोगों से राज्य को ड्रग्स मुक्त और भ्रष्टाचार मुक्त सरकार देने का वादा किया. कांग्रेस सरकार बेरोजगारी की समस्या को हल करने में विफल रही. केजरीवाल ने लोगों से पहला वादा रोजगार देने का किया.

5- किसानों का आंदोलन
साल भर तक चलने वाले किसान आंदोलन (Farmers Protest) ने आप के पक्ष में हवा बनाने का काम किया. बीजेपी के खिलाफ विरोध की भावना को कांग्रेस जमीन पर भुनाने में कामयाब नहीं हुई. आप ने कांग्रेस की इस नाकामी का फायदा उठाया. अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और राघव चड्ढा जैसे आप के सीनियर नेताओं ने किसानों के विरोध प्रदर्शन की जगहों का लगातार दौरा किया.

Aparna Yadav: मुलायम सिंह की पोती ने योगी का किया ‘राजतिलक’, देखिए VIDEO…
भाजपा को मिली इस बड़ी जीत के बाद सपा के संरक्षक मुलायम सिंह यादव की पोती और अपर्णा यादव की बेटी ने सीएम योगी को तिलक लगाकर अभिनंदन किया.
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में बीजेपी को प्रचंड बहुमत मिला है. मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने नेतृत्व में पार्टी लगातार दूसरी बार सरकार बनाने जा रही है. भाजपा को मिली इस बड़ी जीत के बाद गुरुवार को यूपी के पूर्व मुख्‍यमंत्री मुलायम सिंह की छोटी बहू और भाजपा नेता अपर्णा यादव अपनी बेटी के साथ योगी आदित्‍यनाथ से मिलकर जीत की बधाई दी. इस दौरान अपर्णा यादव की बेटी ने सीएम योगी का तिलक लगाकर अभिनंदन किया. इसका वीडियो भी वायरल हो रहा है. वीडियो में दिख रहा है कि अपर्णा की बेटी ने अपनी मां की मदद से योगी को टीका लगाया…

इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट पर सरकार प्रतिबंध क्यों लगा रही है? दुनिया के सबसे गंदे इंसान’ अमो हाजी की 94 वर्ष की आयु में मृत्यु अनहोनी के डर से इस गांव में सदियों से नहीं मनाई गई दिवाली धनतेरस के दिन क्यों खरीदते हैं सोना-चांदी और बर्तन? पुराने डीजल या पेट्रोल वाहनों को रेट्रोफिटिंग करवाने से क्या होगा ?