चक्रवात तूफान केरल और तमिलनाडु के तट पर पहुंचा

शेयर करें:

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने एनडीआरएफ अधिकारियों के साथ तमिलनाडु और केरल में चक्रवाती तूफान प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति समीक्षा की। चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में एनडीआरएफ की और टीमें भेजी गई हैं। जहां तमिलनाडु और केरल में तेज हवाओ और भारी बारिश से अब तक कम से कम आठ लोगों की मौत हुई है वहीं मौसम विभाग ने लक्ष्यद्वीप में भीषण चक्रवाती तूफान की चेतावनी जारी की है।

तमिलनाडु और केरल के दक्षिणी जिलों में चक्रवात ओखी के कारण मूसलाधार बारिश हो रही है जिससे आम जनजीवन बुरी तरह प्रभावित हुआ है। इस चक्रवात में तमिलनाडु और केरल में चार चार लोगों की मौत हो गई। दोनों राज्य सरकारों ने चक्रवात को देखते हुए प्रशासन को हाई अलर्ट पर रखा है।

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने एनडीआरएफ अधिकारियों के साथ तमिलनाडु और केरल में चक्रवाती तूफान प्रभावित क्षेत्रों की स्थिति समीक्षा की। चक्रवात प्रभावित क्षेत्रों में एनडीआरएफ की और टीमें भेजी। इस तूफान के लक्षद्वीप की ओर बढ़ने की संभावना है और यह दो दिसंबर को इस द्वीप समूह पर पहुंचेगा।

तूफान के चलते 65-75 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से हवाएं चल रही है। दक्षिणी तमिलनाडु के तटीय इलाकों में मछुआरों को सलाह दी गई है कि वे अगले 24 घंटों के लिए समुद्र में नहीं जाएं। तमिलनाडु सरकार ने राज्य और राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीमों को कन्याकुमारी जिले में तैनात किया है। इस जिले में मूसलाधार बारिश हुई है। बारिश के चलते कांचीपुरम में स्कूलों को आज बंद रखा गया है। केरल सरकार ने भी नौसेना, तटरक्षक और वायु सेना से मदद भी मांगी है।