MP में कोरोना पॉजिटिव के मामले बढ़कर हुए 182, सबसे ज्यादा इंदौर में 128 केस

शेयर करें:

भोपाल@ मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस से पीड़ित मरीजों की संख्या बढ़कर 182 हो गई है. इनमें से अब तक 11 कोरोना पॉजिटिव (Corona positive) मरीजों की मौत हो चुकी है. जानकारी के मुताबिक, इंदौर में सबसे ज्यादा 128 पॉजिटिव केस सामने आए हैं. यही वजह है कि यहीं पर कोरोना पीड़ित मरीजों की मौत का आंकड़ा भी सबसे ज्यादा है. कहा जा रहा है कि इंदौर में अब तक 7 मरीजों की मौत हो चुकी है.

मुरैना में अभी तक 12 पॉजिटिव केस सामने आए हैं. वहीं, उज्जैन में 7 पॉजिटिव केस में से 2 की मौत हो चुकी है. जबलपुर में कोरोना पीड़ित मरीजों की संख्या 8 है. इसी तरह भोपाल में 15 कोरोना पीड़ित मरीज हैं. इसके अलावा ग्वालियर मेंं 2 और शिवपुरी में 2 पॉजिटिव केस सामने आए हैं, जबकि खरगोन में 3 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में से एक की मौत हो गई है. इसी तरह छिंदवाड़ा में भी 2 कोरोना पॉजिटिव मरीजों में​ एक ने दम तोड़ दिया है. बड़वानी में 3 कोरोना पॉजिटिव केस हैं.

बता दें कि कल ही भोपाल के पहले दो कोराना वायरस संक्रमित मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है. इनमें पहली मरीज लंदन से वापस आई 26 वर्षीय युवती और दूसरा मरीज 62 वर्षीय उसके पत्रकार पिता हैं. दोनों के उपचार के बाद उनकी रिपोर्ट में उनके संक्रमित नहीं होने की पुष्टि हुई है. भोपाल एम्स के निदेशक डॉ. सरमन सिंह ने शनिवार को ‘पीटीआई भाषा’ को बताया कि पिता एवं पुत्री दोनों की रिपोर्ट में उनके संक्रमित नहीं होने की पुष्टि के बाद उन्हें भोपाल एम्स से शुक्रवार रात को छुट्टी दे दी गई.

उन्होंने बताया कि युवती को संक्रमित पाए जाने पर 21 मार्च को और इसके चार दिन बाद उसके पिता को संक्रमित पाए जाने पर उपचार के लिए भोपाल एम्स में भर्ती किया गया था. उल्लेखनीय है कि पत्रकार के संक्रमित होने की पुष्टि से पहले उन्होंने मुख्यमंत्री निवास में 20 मार्च को तत्कालीन मुख्यमंत्री कमलनाथ की पत्रकार वार्ता में हिस्सा लिया था. इस अहम पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के विधायकों, वरिष्ठ अधिकारियों सहित सैकड़ों पत्रकारों ने हिस्सा लिया था.

इस पत्रकार वार्ता में कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र देने की घोषणा की थी. उक्त पत्रकार के संक्रमित होने की खबर के बाद यहां के मीडिया जगत में खलबली मच गई थी. पत्रकार की पुत्री लंदन में रहकर कानून की पढ़ाई कर रही है और 18 मार्च को ही लंदन से भोपाल आई थी. भोपाल संभागायुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने दोनों मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी देने की पुष्टि की है.