कंधे पर बोरी उठाए कलेक्टर लोगों को पहुंचा रहे थे राशन यह देख उनके जज्बे को सलाम की जनता

शेयर करें:

आज देश एक बड़े ही बुरे से दौर से गुजर रहा है जो बड़ा ही तकलीफों से भरा हुआ है और प्रशासन हर तरफ से कोरोना प्रभावित इलाको में ख़ास तौर पर लोगो की मदद करने के लिए जी जान लगा रहा है. ऐसा ही एक किस्सा केरल राज्य के एक जिले पथनमिट्टा के कलेक्टर के साथ में देखने में आया जो लोगो की मदद सिर्फ दफ्तर से नही कर रहे थे बल्कि उनके लिए वो सड़क पर ही उतर आये.

दरअसल केरल में जो भी फेमिली सस्पेक्टेड है उन्हें आईसोलेट किया जा रहा है यानी उनके घर में कोई आ नही सकता और उनके घर से कोई भी बाहर निकल नही सकता है और ऐसे ही एक परिवार को भी अन्दर बंद किया गया क्योंकि उनके ऊपर संक्रमित होने का शक था. अब परिवार काफी समय से बंद था लेकिन उनका राशन खत्म हो गया था और ऐसे वक्त में उनके साथ में क्या किया जाये?

ये भी तो सोचने वाली ही बात है तो ऐसे में कलेक्टर महोदय ने खुद ही राशन की बोरी उठा ली और उनके परिवार तक वो राशन पहुंचने के लिए पहुँच गये. जब ये राशन परिवार तक पहुंचा तो उन्होंने भी उनका बहुत ही दिल से धन्यवाद किया और जब उनकी तस्वीरे सोशल मीडिया पर वायरल हुई तब तो लोगो ने उनकी जमकर के तारीफ़ करनी शुरू कर दी कि जिस तरह से बड़े बड़े लेवल के अफसर भी कोरोना से निपटने के लिए एकजुट हो रहे है

वो अपने आप में काबिले तारीफ़ ही कहा जाएगा इस बात में कोई भी संशय नही है. ये तो सिर्फ एक कलेक्टर पीबी नूह की कहानी है और भी कई ऐसे ऐसे अफसर है जो लोगो की मदद के लिए आगे आ रहे है और उनके जीवन को पहले की तुलना में और अधिक आसान बना रहे है.