बिना एसएमएस प्राप्त हुए खरीदी केन्द्र पहुंचने वाले किसानों के उपज की तुलाई नहीं होगी : एसडीएम को कलेक्टर ने दिए निर्देश

शेयर करें:

जबलपुर। कलेक्टर भरत यादव ने आज जिले के सभी अनुविभागीय दण्डाधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें अपने क्षेत्र में गेहूँ खरीदी की नियमित मॉनिटरिंग करने तथा खरीदी केंद्रों पर सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिये हैं । श्री यादव ने कहा कि खरीदी केंद्रों पर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिये सभी जरूरी सावधानी बरती जानी चाहिए । किसान मास्क लगाकर ही आयें तथा खरीदी केंद्रों पर हाथ धोने के लिये साबुन-पानी एवं हैण्ड सेनिटाइजर की पर्याप्त व्यवस्थाएँ हो यह अनुविभागीय दण्डाधिकारियों को सुनिश्चित करनी होगी ।

कलेक्टर ने बैठक में बताया कि एक ही स्थान पर ज्यादा किसान इकट्ठे न हो इसके लिये इस बार पिछले बर्ष की तुलना में दोगुने खरीदी केंद्र स्थापित किये जा रहे हैं । इसके साथ ही हर खरीदी केंद्र पर प्रतिदिन छह किसानों को ही एसएमएस भेजकर उपार्जन के लिये  बुलाया जायेगा । इनमें सुबह की पाली में तीन और दोपहर की पाली में भी तीन किसानों की उपज की तुलाई  की जाएगी । श्री यादव ने सभी एसडीएम से कहा कि वे अपने क्षेत्र के किसानों को स्पष्ट बता दें कि उन्हें एसएमएस प्राप्त होने पर ही अपनी उपज लेकर खरीदी केंद्र पहुँचना है । बिना एसएमएस प्राप्त हुए खरीदी केंद्र पहुंचने पर उनकी उपज की तुलाई नहीं की जायेगी ।

कलेक्टर ने कहा कि किसानों को यह भी बताया जाये कि इस बार उनकी पूरी उपज समर्थन मूल्य पर खरीदी जायेगी । उन्हें खरीदी केंद्रों पर अपनी उपज पहले से लाकर डंप नही करना है । उनकी उपज की खरीदी नम्बर आने पर ही कि जायेगी ।

श्री यादव ने बैठक में  खरीदी केंद्रों पर पर्याप्त मात्रा  में तुलाई मशीनें, बारदाना और हम्मालों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिये ताकि जिस दिन किसान आयें उनकी उपज की पूरी तौल उसी दिन हो जाये । उन्होंने सोशल डिस्टेंसिंग के लिये खरीदी केंद्रों पर मार्किंग करने की हिदायत भी दी तथा किसानों की सहूलियत के लिये पीने के पानी, बैठने के लिये छायादार व्यवस्था करने की बात कही । श्री यादव ने कहा कि वृद्ध एवं बीमार किसानों को खरीदी केंद्र आने से बचाया जाये उनकी ओर से उनके द्वारा नामित  व्यक्ति से उपज की खरीदी जाये । इसके बावजूद भी आते हैं तो सर्वोच्च प्राथमिकता देकर उनकी उपज  का उपार्जन किया जाये ।

बैंक एवं राशन दुकानों में हो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन:

कलेक्टर ने बैठक में  केंद्र एवं राज्य शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत खाते में जमा की गई राशि निकालने बैंक पहुँच रहे हितग्राहियों के बीच भी सोशल डिस्टेंसिंग पर जोर दिया । उन्होंने कहा कि खातेदारों को समझाएं की जो भी राशि शासन द्वारा जमा की गई है वह उनके खाते में ही जमा रहेगी, कहीं और नही जाएगी और लेप्स भी नहीं होगी । इसलिये वे धैर्य रखें और बहुत ज्यादा जरूरत होने पर ही बैंक जाएं । श्री यादव ने कहा कि कोशिश की जाए कि इन खातेदारों को जल्दी से जल्दी उनके घर पर ही राशि का भुगतान हो जाये ।

कलेक्टर ने  उचित मूल्य की दुकानों पर भी सोशल डिस्टेंसिंग बनाये रखने के निर्देश अधिकारियों को दिये । उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य शासन द्वारा लॉकडाउन के चलते सार्वजनिक वितरण प्रणाली और खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत उपलब्ध कराए जा रहे खाद्यान्न का सभी पात्र उपभोक्ताओं को उपलब्ध हो इसके लिये उचित मूल्य दुकानों समय पर और नियमित रूप से खुलें  इसे हर हाल में सुनिश्चित किया जाए ।

संवेदनशीलता व मानवीय दृष्टिकोण से करें मदद:

कलेक्टर ने बैठक में कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के उपायों पर भी सभी एसडीएम के साथ चर्चा की । उन्होंने अपने-अपने क्षेत्र में लॉकडाउन का सख्ती पालन कराने तथा दैनिक जरूरतों की सामग्री की आपूर्ति बनाये रखने के निर्देश इन अधिकारियों को दिये । उन्होंने कहा कि एसडीएम ऐसे लोगो की भी राशन आदि देकर मदद करें जिन्हें किसी भी योजना के तहत लाभ पाने की पात्रता नहीं है, लेकिन लॉकडाउन की वजह से रोजी रोटी का कोई जरिया नहीं होने की वजह से सबसे ज्यादा कठिनाई झेल रहे हैं । श्री यादव ने कहा कि इन लोगों के प्रति संवेदनशीलता और मानवीय दृष्टिकोण अपनाना होगा तथा उनकी मदद के लिये आगे बढ़कर पहल करनी होगी । श्री यादव ने कहा कि ऐसे लोगों की मदद उपलब्ध कराने के लिये जरूरी होगा तो रेडक्रॉस सोसायटी से सभी एसडीएम को राशि भी मुहैय्या कराई जाएगी ।