गरीबों और मजदूरों की भोजन व्यवस्था में कलेक्टर ने सामाजिक एवं स्वयंसेवी संगठनों से की मदद की अपील

शेयर करें:

जबलपुर। कलेक्टर भरत यादव ने वर्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में भी गरीब और बेसहारा लोगों तथा बाहर से आ रहे मजदूरों के भोजन आदि की व्यवस्था में समाजसेवी संस्थाओं एवं स्वयंसेवी संगठनों के सहयोग की जरूरत बताई है । श्री यादव आज कलेक्टर कार्यालय के सभाकक्ष में आयोजित समाजसेवी संगठनों एवं स्वयंसेवी संस्थाओं की बैठक को सम्बोधित कर रहे थे।

बैठक में पुलिस अधीक्षक अमित सिंह, नगर निगम आयुक्त आशीष कुमार, जिला पंचायत सीईओ प्रियंक मिश्रा , डॉ जितेंद्र जामदार ,डॉ राजेश धीरावाणी, कैलाश गुप्ता, डॉ पवन स्थापक, डॉ व्ही के पांसे, डॉ प्रवीण दुबे और आशीष दीक्षित आदि मौजूद थे।

कलेक्टर ने बैठक में कहा कि ग्रामीण क्षेत्र और जिले के छोटे शहरों में बढ़ रहे मूवमेंट को देखते हुए अब यहाँ ज्यादा ध्यान दिए जाने की जरूरत है । उन्होंने कहा कि जबलपुर शहर में बरती जा रही सख्ती के अच्छे परिणाम मिल रहे हैं । लेकिन इससे हमें रिलेक्स नहीं होना है । बल्कि असल चुनौती अब हमारे सामने है ।

ग्रामीण क्षेत्र में देश के बड़े शहरों और प्रदेश के अन्य जिलों से वापस आ रहे लोगों के कारण खतरा ज्यादा बढ़ गया है । श्री यादव ने बैठक में कहा कि प्रशासन द्वारा जिले के सभी प्रवेश मार्गों पर चेक पोस्ट स्थापित किये गये हैं और इन चेकपोस्ट पर हर व्यक्ति का स्वास्थ्य परीक्षण किया जा रहा है ।

उन्होंने बताया कि प्रशासन के सामने चुनौती अब बाहर से वापस आ रहे इन लोगों के हेल्थ और हाईजीन का ध्यान रखने की है । इसी के साथ यहाँ रुक गये बाहर के मजदूरों के भोजन रहने के इंतजाम पर भी ध्यान देना होगा । कलेक्टर ने कहा कि इस काम में स्वास्थ विभाग सहित ग्रामीण क्षेत्र में पदस्थ अन्य विभागों के अमले की सेवाएं ली जा रही है ।

जिला मुख्यालय पर स्थापित एकीकृत कोरोना कण्ट्रोल रूम से भी ग्रामीण क्षेत्र में होम आइसोलेशन में रखे गये लोगों पर लगातार नजर भी रखी जा है । श्री यादव ने कहा कि ऐसे लोगों को भोजन और राशन वितरण के साथ-साथ आइसोलेशन में रखे गये लोगों की निगरानी के काम में भी समाजसेवी संगठनों द्वारा प्रशासन का सहयोग किया जा सकता है ।

श्री यादव ने बैठक में कहा कि लॉक डाउन के दौरान ग्रामीण क्षेत्र में सहयोग करने की इच्छुक समाजसेवी संस्थाए इस बारे में जिला रेडक्रॉस समिति के सचिव , जिला पंचायत के सीईओ या सीधे उनसे संपर्क कर सकती हैं । उन्होंने ग्रामीणों को कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम एवं बचाव के उपायों की जानकारी देने, उन्हें जागरूक करने के कार्य मे भी समाजसेवी संगठनों से सहयोग का आग्रह किया ।

कलेक्टर ने कहा कि स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम कर रहीं संस्थाए और निजी अस्पताल कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के प्रयासों में चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टॉफ की ग्रामीण क्षेत्र में सेवाएं उपलब्ध कराकर भी अपना अमूल्य सहयोग प्रदान कर सकते हैं ।

श्री यादव ने बैठक में ग्रामीण क्षेत्र एवं जिले के दूसरे नगरीय निकायों में पदस्थ कर्मचारियों एवं स्वास्थ, वन , महिला बाल विकास , राजस्व तथा पंचायत एवं ग्रामीण विकास जैसे फ्रंटलाइन में रहने वाले विभाग के अमले को मास्क एवं सेनिटाइजर उपलब्ध कराने की बात कही ।

उन्होंने कहा कि इनकी सुरक्षा पर भी सभी को खास ध्यान देना होगा । बैठक में ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को राहत पहुंचाने के कार्य में बेहतर समन्वय स्थापित करने की आवश्यकता पर भी जोर दिया गया ।