Skip to content

भारत में बसे अपने नागरिकों को चीन ने सतर्क रहने को कहा कहा

इस ख़बर को शेयर करें:

नई दिल्ली। डोकलाम मुद्दे पर युद्ध की गीदड़ भभकी दे रहे चीन ने एक और नई चाल चली है। चीन की ओर से भारत में ठहरे अपने नागरिकों के लिए एडवाइजरी जारी की गई है।

चीन ने अपने नागरिकों को सुरक्षा से लेकर सेहत तक के लिए सतर्क रहने को कहा है। चीनी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने इस एडवाइजरी को ट्विटर पर शेयर किया है। ट्वीट में कहा गया है कि ‘भारत में रह रहे सभी चीनी नागरिक अपनी सुरक्षा को लेकर चौकने रहे।’ चीन ने कहा है कि भारत में वह आपदा और बीमारियों से भी खुद को सुरक्षित रखें।

बता दें कि इससे पहले चीन ने केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह की उम्मीदों को करारा झटका देते हुए कहा कि डोकलाम में गतिरोध का एकमात्र तरीका यह है कि भारत बिना किसी शर्त के उस इलाके से अपने सैनिकों को हटाए। इतना ही नहीं चीन ने धमकी देते हुए कहा था कि अगर उसकी सेनाएं भारत में घुसती हैं तो अव्यवस्था और अफरा-तफरी फैल जाएगी।

राजनाथ ने क्या कहा था
केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आईटीबीपी के एक कार्यक्रम में सोमवार को उम्मीद जताई थी कि डोकलाम के मामले पर चीन जल्द ही ‘सकारात्मक’ कदम उठाएगा।

क्या है डोकलाम विवाद
भारत और चीन के बीच ये विवाद 16 जून को तब शुरू हुआ जब इंडियन आर्मी ने डोकलाम एरिया (जो भूटान, भारत के पूर्व सिक्किम जिला, और चीन के यदोंग काउंटी के बीच में है) में चीनी सैनिकों को सड़क बनाने से रोक दिया था। जबकि चीन का कहना है कि वह अपने इलाके में सड़क बना रहा है।

इस विवादित क्षेत्र को भारत ‘डोका ला’ नाम से बुलाता है जबकि भूटान इसे डोकलाम और चीन इसे ‘डोंगलांग’ रीजन का हिस्सा मानता है। जम्मू-कश्मीर से लेकर अरुणाचल प्रदेश तक भारत और चीन का 3488 km लंबा बॉर्डर है, जिसका 220 km हिस्सा सिक्किम में आता है।