छत्तीसगढ़: नक्सली हिंसा पर वोट की चोट

शेयर करें:

छत्तीसगढ़ में लोगों ने बढ़ चढ़ कर मनाया जनतंत्र का महोत्सव, पहले चरण के मतदान में माओवाद प्रभावित कई इलाकों में 70 फीसदी से भी ज्यादा मतदान। छत्तीसगढ़ में सोमवार को हुए विधानसभा चुनाव के पहले चरण के लिए भारी मतदान हुआ। इस चरण में आठ जिलों के 18 निर्वाचन क्षेत्रों में वोट डाले गए. 10 सीटों पर मतदान सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक चला जबकि 8 सीटों पर मतदान 8 बजे से शाम 5 बजे तक हुआ. शाम पांच बजे तक 70 प्रतिशत मतदान रिकॉर्ड किया गया। माओवादियों द्वारा बार-बार चुनाव का बहिष्कार किए जाने के आह्वान के बावजूद भी लोगों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा। कुल मिलाकर मतदान शांतिपूर्वक रहा।

छत्तीसगढ़ के नक्सलवाद प्रभावित क्षेत्रों के मतदान केंद्रों की जहाँ नक्सलियों ने चुनाव बहिष्कार की घोषणा की थी. जहाँ मतदान से पहले कई सुरक्षाबलों ने नक्सली हमलों और आई ई डी ब्लास्ट में अपनी जान तक गंवा दी. दूरदर्शन का कैमरामैन भी शहीद हुआ लेकिन इनकी शहादत व्यर्थ नहीं गई. सोमवार को छत्तीसगढ़ में प्रथम चरण में 18 सीटों पर हुए मतदान ने दिखा दिया की बुलेट पर भारी पड़ा बैलट.

चाक चौबंद सुरक्षा व्यवस्था के बीच सोमवार को छत्तीसगढ़ में प्रथम चरण में 18 सीटों पर मतदान हुआ .10 सीटों पर मतदान सुबह 7 बजे से दोपहर 3 बजे तक चला जबकि 8 सीटों पर मतदान 8 बजे से शाम 5 बजे तक हुआ. छुटपुट घटनाओं को छोड़ आम तौर पर मतदान शांतिपूर्ण रहा..

नक्सलियों द्वारा बार-बार चुनाव का बहिष्कार किए जाने के आह्वान के बावजूद भी लोगों पर इसका कोई असर नहीं पड़ा. इस चरण में अभी तक 70% से ज़्यादा मतदान हुआ है. अंदरूनी क्षेत्रों से आंकड़े आने अभी बाकी हैं और ये आंकड़ा बढ़ सकता है और चुनाव आयोग ने उम्मीद जताई है कि अंतिम मत प्रतिशत पिछले चुनावों से ज़्यादा हो सकता है.

इस चरण में मतदाताओं ने नक्सलियों की चुनौती स्वीकार की और भेज्जी, गचनपल्ली , कोलाईगुड़ा जैसे उन क्षेत्रों में भी मतदाताओं ने मतदान करने का जज़्बा दिखाया जहाँ पिछले चुनावों में बेहद कम मतदान हुआ था. सुकमा के पालम अडगु में 15 साल बाद पहली बार मतदान हुआ. 4 साल पहले सरेंडर किए पूर्व नक्सली- दम्पति मैंनूराम और राजबत्ती ने भी उत्साह से मतदान किया .. 100 से ज़्यादा उम्र की महिलाएँ, दिव्यांगजन, बुज़ुर्ग सभी ने अपनी वोट की ताक़त पहचानी और नक्सलियों को दिया करारा जवाब.

वहीं चुनावों में चुनौतियाँ भी कम नहीं थीं. सोमवार सुबह भी एक पोलिंग बूथ के पास सुरक्षाबलों को छह आईडी मिले. सोमवार सुबह दंतेवाड़ा जिले में कटेकल्याण इलाके में नक्सलियों ने तुमकापाल कैंप के पास आईईडी धमाका किया हालांकि इस में कोई हताहत नहीं हुआ. बीजापुर के पामेड में नक्सलियों से हुई मुठभेड़ में कोबरा के 5 जवान घायल, 4-5 नक्सली मारे गये लेकिन मतदान केंद्रों पर मतदान शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो गया.

सोमवार को लोकतंत्र के यज्ञ में अपने वोट की आहुति देने के उत्साह को लेकर इन नक्सल प्रभावित क्षेत्रों ने सुर्खियाँ बटोरीं जो लोकतंत्र के लिए अच्छी खबर है. पहले चरण के बाद अब राज्य में दूसरे चरण के 72 सीटों के लिए इस महीने की 20 तारीख को मतदान होगा।