प्रधानमंत्री आवास योजना से श्रीमती गुड्डीबाई धुर्वे के जीवन में आया बदलाव

शेयर करें:

जबलपुर। जिले की जनपद पंचायत कुंडम के सकरी गांव की श्रीमती गुड्डी बाई धुर्वे के पक्के आवास का सपना प्रधानमंत्री आवास योजना से बने पक्के मकान से पूरा हो गया है। आज प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा वर्चुअल गृह प्रवेश कराने के अवसर पर उनके घर और गांव में उत्सव जैसा माहौल था। अब वह अपने नए घर में अपने परिवार के साथ प्रसन्नतापूर्वक निवास कर रही हैं।

इस योजना ने उनके जीवन में बदलाव ला दिया है तथा समाज में भी उनका मान-सम्मान बढ़ गया है। कुंडम विकासखंड के ग्राम पंचायत कस्तरा के पोषक ग्राम सकरी में श्रीमती गुड्डी बाई और उनके पति श्री लाल सिंह धुर्वे पहले कच्चे और कवेलू वाले मकान में रहते थे। कच्चे मकान में उनका ठीक से रहन-सहन नहीं हो पाता था और परिवार के सदस्यों के लिये जगह की हमेशा कमी बनी रहती थी।

बरसात में जहां घर में पानी टपकते रहता था, वहीं कीड़े-मकोड़े भी घर में घुस जाते थे जिससे जान का भय बना रहता था। उनके तीन पुत्रियों में से दो की शादी हो चुकी है एक पुत्री कक्षा नवमी में पढ़ती है तथा उसे भी अध्ययन में परेशानी होती थी और वह अच्छे और पक्के मकान का सपना देखती थी।

श्रीमती गुड्डी बाई को प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण के संबंध में स्थानीय सरपंच सचिव द्वारा जानकारी प्राप्त होने पर उन्होंने इस योजना के अंतर्गत पक्के आवास के लिये आवेदन किया और जनपद पंचायत कुंडम द्वारा राशि पक्के आवास निर्माण के लिये उपलब्ध कराई गई। इस राशि से उन्होंने प्रधानमंत्री आवास का निर्माण कर अपना पक्का मकान बनाने का सपना पूरा कर लिया है।

श्रीमती गुड्डी बाई ने अपने पति के साथ मिलकर अपने आवास को बहुत ही अच्छे और सुंदर ढंग से सजाया है। पुताई और रंग-रोगन में उन्होंने अपनी सुंदर अभिरूचि का परिचय दिया है। अब वे अपने परिवार के साथ इस पक्के आवास में रहने लगी है। उनकी पुत्री का पक्के आवास का सपना भी पूरा हो गया है तथा वह मन लगाकर अपनी पढ़ाई को पूरा करने में लगी हुई है।

अब श्रीमती गुड्डी बाई और उनका परिवार नये पक्के आवास में अच्छे से अपना जीवनयापन करने के साथ ही प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री की सराहना करते हुये अन्य लोगों को भी इस योजना का लाभ लेने के लिये प्रेरित कर रहे हैं। कोविड काल में ग्राम सकरी में 51 प्रधानमंत्री आवास बनाने का लक्ष्य था जिसमें से 29 आवास बन चुके हैं। पूर्ण हो चुके आवासों में आज गृह प्रवेश का कार्यक्रम उत्सव पूर्वक संपन्न हुआ।