बिहार दिवस पर चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष समारोह का समापन बिहार दिवस समारोह आज

शेयर करें:

बिहार दिवस पर चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष समारोह का समापन बिहार दिवस समारोह आज

पटना – राज्य में पूरे एक साल तक गांधी चम्पारण सत्याग्रह समारोह का आयोजन किया गया। जिसके तहत राज्य के विभिनन जगहों पर अलग-अलग कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम की शुरुआत ज्ञान भवन से पिछले वर्ष अप्रैल में महात्मा गांधी पर राष्ट्रीय विमर्श के आयोजन से हुआ था।

इसी कड़ी में साल भर तक चले विभिन्न कार्यक्रमों का समापन बिहार दिवस के मौके पर होगा। उक्त बातें बुधवार को आयोजित पत्रकार वार्ता में शिक्षा मंत्री कृष्ण नंदन प्रसाद वर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि ये हमारे लिए हर्ष की बात है कि कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू शरीक हो रहे हैं।

इस साल बिहार दिवस का विषय चम्पारण सत्याग्रह शताब्दी वर्ष का समापन है। 22 मार्च से शुरू हो कर तीन दिनों तक चलने वाला यह कार्यक्रम 24 मार्च को समाप्त हो जाएगा। समापन समारोह में राज्यपाल सत्यपाल मल्लिक शिरकत करेंगे। इस अवसर पर गांधी मैदान के साथ ही श्रीकृष्ण मेमोरियल हॉल (22 एवं 23 मार्च) और रवीन्द्र भवन (24 मार्च) में कार्यक्रम का आयोजन किया गया है। इस कार्यक्रम में पूरे राज्य की भागीदारी होती है। राज्य में हो रहे बड़े-बड़े आयोजनों से राज्य की छवि बदली है।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार निरंतर विकास कर रहा है। मंत्री ने बताया कि इस कार्यक्रम का बजट लगभग पांच करोड़ रुपये है। इस आयोजन में शिक्षा विभाग के विभिन्न निदेशालयों जैसे बिहार शिक्षा परियोजना परिषद, राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान, जन शिक्षा एवं किलकारी की ओर से पैवेलियन लगाये गये हैं। जिसमें दिनभर रंगारंग कार्यक्रम होंगे। राज्यभर से करीब पांच हजार बच्चे पटना में पहुंचेंगे, जिन्हें तीन दिनों तक कार्यक्रमों में भाग लेना है। गांधी मैदान में आयोजन स्थल को पूरी तरह से गांधीमय किया गया है।

परिसर में एक सांस्कृतिक मंडप बनाया गया है, जिसमें राज्य के स्थानीय कलाकारों की ओर से विभिन्न रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी जाएगी। नुक्कड़ नाटक के लिए मुक्ताकाश मंच अलग से बनाया गया है। इसके साथ ही विभिन्न विभागों व संस्थाओं के पैवेलियन व स्टॉल बनाये गये हैं। पर्यटन विभाग की ओर से लजीज व्यंजन मेला लगाया गया है। एक सवाल के जवाब में मंत्री ने कहा कि ये राज्य का समारोह है। इसमें सभी आमंत्रित हैं। अपने घर के कार्यक्रमों में शामिल होने के लिए किसी को निमंतण्र की जरूरत नहीं होती।