किसानों को केंद्र सरकार ने दी बड़ी राहत : खरीफ की फसलों के न्यूनतम समर्थन मूल्य में किया इजाफा

शेयर करें:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवाई को हुई कैबिनेट की बैठक में खरीफ (गर्मियों में बाई जाने वाली) की फसलों का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) बढ़ाने का फैसला किया गया है। सरकार ने खरीफ की विभिन्न फसलों के MSP में 50 से 62 प्रतिशत का इजाफा किया है। बैठक के बाद कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर ने इस की जानकारी दी है।

ज्वार-बाजरे की फसल में किया 118 रुपये प्रति क्विंटल का इजाफा
कृषि मंत्री तोमर ने बताया कि धान के MSP में 72 रुपये प्रति क्विंटल का इजाफा किया गया है। इसके बाद 1,868 रुपये प्रति क्विंटल से धान अब 1,940 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है। इसी तरह बाजरे और ज्वार का MSP 118 रुपये प्रति क्विंटल बढ़ाया गया है। इसके बाद इनकी कीमत क्रमश: 2,250 और 2,738 रुपये प्रति क्विंटल हो गई है। उड़द दाल के MSP में 300 और तिल में 400 रुपये प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी की है।

धान की खरीद से 120 लाख किसानों को हुआ फायदा- तोमर
कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि पिछले सात सालों में किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए उनके पक्ष में कई बड़े निर्णय किए गए है। इससे किसानों को बड़ा फायदा होगा। उन्होंने कहा कि सरकार ने 6 जून, 2021 तक कुल 813.11 लाख मीटि्रक टन धन की खरीद की है, जबकि पिछले साल 736.36 लाख मीटि्रक टन की खरीद हुई थी। खरीद के बढ़ने से देश के कुल 120 लाख किसानों को इसका लाभ मिला है।

देश में 36.87 लाख हेक्टेयर में हुई धान की बुवाई
कृषि मंत्रालय के अनुसार खरीफ सीजन में 36.87 लाख हेक्टेयर धान की बुवाई हुई है, जो 2020-21 की तुलना में 5.25 लाख हेक्टेयर ज्यादा है। पश्चिम बंगाल, तेलंगाना, कर्नाटक, असम, आंध्र प्रदेश, ओडिशा में खरीफ चावल की बुवाई शुरू हो गई है।

किसानों के विरोध के बीच हुआ MSP में इजाफा- तोमर
कृषि मंत्री तोमर ने कहा कि सरकार हमेशा किसानों की हितैषी रही है। यही कारण है के कृषि कानूनों के विरोध के बाद भी MSP में इजाफा किया गया है। उन्होंने कहा कि विरोध करने वाले किसान MSP को लेकर चिंतित थे, लेकिन सरकार ने साफ कर दिया था कि MSP आगे भी जारी रहेगी। उन्होंने कहा कि सभी पार्टियां कृषि कानून लाना चाहती थी, लेकिन वो हिम्मत नहीं कर पाई। सरकार हमेशा किसानों से बातचीत के लिए तैयार है।