इंजीनियर के एक छात्र का भविष्य खराब होने से बचाया ‘केयर बाय कलेक्टर’

शेयर करें:

जबलपुर । केयर बाय कलेक्टर व्हाट्स अप नंबर पर भेजे गये एक संदेश से मेकेनिकल इंजीनियर के एक छात्र का भविष्य खराब होने से बच गया। लक्ष्मीनारायण प्रौद्योगिक महाविद्यालय जबलपुर में आठवें और अंतिम सेमेस्टर में अध्ययनरत छात्र दीपक कुमार खातरकर फीस न चुका पाने के कारण कॉलेज प्रबंधन द्वारा उसका परीक्षा फार्म अग्रेषित नहीं किये जाने के कारण चिंतित था।

बैतुल जिले के सारणी नगर का निवासी यह छात्र जबलपुर में आनंद नगर स्थित शासकीय पोस्ट मेट्रिक छात्रावास में रहकर इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहा है। सालाना मिलने वाली छात्रावृत्ति से ही वह कॉलेज की फीस चुकाता रहा है। लेकिन इस बार छात्रवृत्ति के भुगतान में हो रहे बिलंब के कारण वह फीस नहीं चुका सका। सारणी नगर के एक उद्यान में सिक्यूरिटी गार्ड उसके पिता की इनकी हैसियत नहीं है कि बच्चे की फीस चुका सके। छात्रवृत्ति ही कॉलेज में उसके एडमिशन का आधार था।

बारबार की मिन्नतों के बावजूद कॉलेज प्रबंधन द्वारा परीक्षा फार्म अग्रेषित नहीं किये जाने से दीपक को अपने भविष्य की चिंता सताने लगी। अखिर में उसे कलेक्टर कर्मवीर शर्मा द्वारा आम लोगों की शिकायतों के त्वरित निराकरण के लिये शुरू किये गये केयर बाय कलेक्टर व्हाट्स अप नंबर 7587970500 से उम्मीद नज़र आई। दीपक ने अपनी पूरी व्यथा संदेश के रूप में केयर बाय व्हाट्स अप नंबर पर भेज दी। संदेश में उसने बताया कि छात्रवृत्ति का भुगतान होते ही हमेशा की तरह इस बार भी कॉलेज की फीस चुका देगा।

दीपक द्वारा भेजे गये इस संदेश पर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने तुंरत संज्ञान लिया। उन्होंने छात्र के भविष्य को देखते हुये तुरंत संबंधित अधिकारियों को कॉलेज प्रबंधन से बात करने के निर्देश दिये। कॉलेज प्रबंधन प्रशासन द्वारा दिये गये हस्तक्षेप से दीपक का फार्म अग्रेषित करने को तैयार हो गया। प्रबंधन ने आश्वासन दिया कि नियत तिथि 10 जून दीपक का परीक्षा फार्म अग्रेषित कर दिया जायेगा। कॉलेज प्रबंधन ने इसकी सूचना दीपक को भी दी। दीपक ने इतनी जल्दी उसके प्रकरण का निराकरण होने पर खुशी व्यक्त करते हुये केयर बाय कलेक्टर पर दोबारा संदेश भेजकर कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा का आभार व्यक्त किया हैं।