कर्नाटक विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार समाप्त

शेयर करें:

कर्नाटक में शनिवार को होने वाले मतदान के लिए चुनाव प्रचार खत्म हो गया। चुनाव प्रचार के आखिरी दिन सभी दलों ने अपनी पूरी ताकत झोंक दी। बीजेपी , कांग्रेस और जेडीएस सभी दलों ने इस चुनावी रण में अपनी अपनी जीत के दावे किये। कर्नाटक के 4 करोड़ 96 लाख मतदाता 2654 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला करेंगे।

कर्नाटक में चुनाव प्रचार का जोर और शोर आज शाम से थम गया। 12 मई को राज्य की 223 विधानसभा सीटों के लिए वोट डाले जाएंगे। राज्य में करीब 4 करोड़ 96 लाख मतदाता हैं और इन मतदाताओँ को अपने पाले में करने के लिए बीजेपी, कांग्रेस और जेडीएस ने करीब एक महीने तक चले लम्बे चुनाव प्रचार में अपनी पूरी ताकत झोक दी।

राज्य में कांग्रेस की सरकार है, लेकिन इस बार बीजेपी ने कर्नाटक से कांग्रेस को उखाड़ फेंकने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा दी। आज चुनाव प्रचार के आखिरी दिन कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रोड़ शो के साथ-साथ एक प्रेस कांफ्रेंस भी की, तो बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने भी बादामी में भाजपा की ताकत दिखाने के लिए रोड शो किया।

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के लिए शनिवार को होने जा रहे मतदान के लिए गुरुवार शाम पांच बजे प्रचार का काम खत्म हो गया। आखिरी दिन तीनों प्रमुख दलों ने जनता तक पहुंचने के लिए पूरी ताकत झोंक दी। तमाम दलों ने रोड शो और रैलियों के जरिए जनता से वोट की अपील की।

बात बीजेपी की करें तो आखिरी दिन पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने बादामी में रोड शो किया जिसमें जमकर भीड़ उमड़ी। अमित शाह ने बैंगलूरु में प्रेस कांफ्रेस की और सरकार बनाने का दावा किया। अमित शाह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और मुख्यमंत्री सिद्धारमैया पर जमकर हमला बोला।

पार्टी अध्यक्ष के अलावा तमाम राज्यों के मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री भी रोड शो के लिए उतरे। इनमें यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, छत्तीसगढ के मुख्यमंत्री रमन सिंह, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय मंत्री धमेंद्र प्रधान शामिल हैं।

बात कांग्रेस की करें तो पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी आखिरी दिन रोड शो किया। राहुल ने एक प्रेस कांफ्रेस भी जिसमें सिद्धारमैया सरकार की उपलबधियां गिनाई और दावा किया कि राज्य में फिर से कांग्रेस की सरकार बनने जा रही है। राज्य की तीसरी ताकत जेडीएस और बीएसपी गठबंधन ने भी जमकर प्रचार किया और अपनी सरकार बनने का दावा किया।

राज्य में कुल करीब 4 करोड़ 96 लाख मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। चुनाव में कुल 2654 उम्मीदवार हैं जिसमें 2435 पुरुष और 219 महिला हैं। मतदान सुबह आठ बजे से शाम छह बजे तक होगा। इसके लिए कुल 56 हजार 696 पोलिंग स्टेशन बनाए गए हैं । चुनाव आयोग की ओर से मतदान के लिए पूरी तैयारियां की गयी हैं।

दिव्यांगों व महिलाओं के लिए विशेष व्यवस्था की गयी है। ईवीएम के साथ- साथ वीवीपैट मशीन का भी इस्तेमाल होगा। पिछले करीब महीने भर से जारी प्रचार के दौरान तमाम दलों ने पूरी ताकत झोंकी और जमकर प्रचार किया । इस दौरान एक दूसरे के खिलाफ खूब आरोप प्रत्यारोप भी हुए।

राज्य के चुनाव में इस बार अहम मुद्दों की बात करें तो –

कानून और व्यवस्था, भ्रष्टाचार, किसानों की बदहाली, सिंचाई की समस्या, बुनियादी सुविधाओं की कमी, बेरोजगारी, पीने के पानी की किल्लत, कई इलाकों में सूखा, वंशवाद की राजनीति, क्षेत्रवाद और धर्म की राजनीति, सिद्धारमैया सरकार का कामकाज और राज्य सरकार के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर अहम मुद्दे रहे । फिलहाल प्रचार का काम खत्म हो चुका है और अब देखना है कि शनिवार को जनता क्या फैसला देती है ।