बीपीएल कार्ड से ज्यादा फायदेमंद कर्मकार मण्डल का कार्ड हैं – मंत्री श्रीमती चिटनीस

शेयर करें:

बुरहानपुर @ ग्राम सिरसोदा में प्रदेश सरकार की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनीस ने ग्रामीणों के बीच पहुंचकर जनसमस्या निवारण शिविर लगाकर समस्याओं को सुना। साथ ही उन्होंने प्राप्त आवेदनों पत्रों के आधार संबंधित विभाग के अधिकारियों को शीघ्रता से निराकरण के निर्देश दिये। इस अवसर पर जनपद अध्यक्ष किशोर पाटील, जनपद पंचायत के सीईओ पंवार, एकीकृत बाल विकास सेवा जिला कार्यक्रम अधिकारी सौरभ सिंह, महिला सशक्तिकरण अधिकारी सुभाष जैन व अन्य जिला अधिकारी एवं बड़ी संख्या में ग्रामीणजन उपस्थित रहे।

कर्मकार मण्डल कार्ड के फायदे
इस अवसर पर मंत्री श्रीमती चिटनीस ने ग्रामीणों को सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं की जानकारी भी दी। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि अधिकतर लोग बीपीएल कार्ड बनाने के लिये परेशान होते हैं। बीपीएल कार्ड के बजाय यदि कर्मकार मण्डल का कार्ड बना लेते है, तो उन्हें बीमार होने पर 3 लाख 50 हजार रूपये तक की सहायता शासन से मिल सकती हैं। इसके अलावा मकान बनाने के लिये कार्डधारी को 1 लाख रूपये अनुदान, मृत्यु होने पर दो लाख रूपये, बेटी के विवाह के लिये नगद 30 हजार रूपये, बच्चों की पढ़ाई के लिये 500 से 4000 रूपये तक कक्षावार अतिरिक्त छात्रवृत्ति का प्रावधान, खेल प्रोत्साहन के लिये 25 हजार रूपये की अतिरिक्त सहायता राशि का प्रावधान हैं। यदि 2 वर्ष तक कर्मकार मण्डल कार्डधारी बने रहते है तो उन्हें शासन की ओर से निःशुल्क साईकिल उपलब्ध करवाने का प्रावधान हैं। मंत्री श्रीमती चिटनीस ने भावान्तर योजना जानकारी देते हुए बताया कि बाजार में फसल का भाव न्यूनतम समर्थन मूल्य (एम.एस.पी.) से कम रहता है तो सरकार द्वारा बाजार भाव एवं न्यूनतम समर्थन मूल्य के बीच के अंतर का मूल्य संबंधित किसान के सीधे बैंक खाते में पहुंचाया जायेंगा।
आंगनवाड़ी के माध्यम से गांव होगा सशक्त
महिला एवं बाल विकास विभाग को सप्ताह में तीन बच्चों के लिये केले का सेवन कराने के निर्देश दिये हैं। ग्राम सिरसोदा में 8 अतिकुपोषित बच्चों की पहचान की गई हैं। यह हमारे लिये चिंता विषय होना चाहिए। सिरसोदा गांव से 8 लोग इन 8 बच्चों की जिम्मेदारी लेते हुए अगले एक वर्ष तक प्रतिमाह एक हजार रूपये समाज हित में खर्च करें। इन एक हजार रूपयों से पांच किलो दाल, सांची का 1 किलोग्राम घी, 2 किलोग्राम गुड़ तथा कोई भी 2 किलोग्राम मौसमी फल या सब्जी खरीदकर इन बच्चों को एवं इनके परिवार को उपलब्ध कराया जायेंगा, जिससें ना तो ये बच्चें कमजोर होगे और ना ही उनका परिवार कमजोर होगा। मंत्री श्रीमती चिटनीस ने समाजजनों से आग्रह किया कि, अपने घर परिवार में बच्चें के जन्म होने, बच्चें के जन्म दिवस पर या अन्य खुशी के अवसर पर आपके परिवार के लोग आंगनवाड़ी में आयें और आंगनवाड़ी की व्यवस्थाओं को देखें। जिससें ना तो हमारा गांव कमजोर होगा ना ही लाचार होगा। श्रीमती चिटनीस ने जनपद सीईओ अनिल पवार से कहा कि पंचायत के खाते में 30 लाख रूपये पडे़ हैं। जिसका उपयोग कार्ययोजना बनाकर गांव के विकास कार्य के लिये खर्च किये जायें। उन्होंने समाज में सामजिक समरसता कायम करने के लिये जातिवाद को समाप्त करने तथा गरीबी, बीमारी, गंदगी, शराबखोरी के खिलाफ संघर्ष करने का संदेश दिया। सिरसोदा ग्राम की पंचायत तय करें कि गांव में शराब की दुकान नहीं होगी तो सिरसोदा ग्राम एक मिसाल पेश कर सकता हैं।