भाजपा त्रिपुरा में अगली सरकार बनाएगी: अमित शाह

शेयर करें:

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को त्रिपुरा के अगरतला में जोर देकर कहा कि भाजपा त्रिपुरा में अगली सरकार बनाएगी जो पार्टी द्वारा शासित 20वां राज्य बनेगा। पूर्वोत्तर के तीनों राज्यों त्रिपुरा मेघालय और नगालैंड में चुनावी सरगर्मियां बढ़ गई हैं। राज्‍यों में चुनाव प्रचार चरम पर है। तमाम पार्टियों के वरिष्‍ठ नेता प्रचार में जुटे हैं।

सोमवार को भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने अगरतला में संवाददाताओं को संबोधित करते हुए जोर देकर कहा कि भाजपा त्रिपुरा में अगली सरकार बनाएगी जो पार्टी द्वारा शासित 20वां राज्य बनेगा। उन्होंने कहा कि यदि भाजपा सत्ता में आयी तो वह राज्य में निवेश लाने और युवाओं के वास्ते रोजगार सृजित करने की पहल करेगी। वे सीपीएम के खिलाफ जमकर बरसे और कहा कि पूरे राज्य में सीपीआईएम सरकार के खिलाफ गुस्‍सा है ।

इधर कांग्रेस ने भी सोमवार को त्रिपुरा के लिए अपना चुनावी घोषणापत्र जारी कर दिया। घोषणापत्र जारी करते हुए कांग्रेस नेता और पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने कहा कि अगर कांग्रेस यहां सत्ता में आती है तो किसान ग्रामीण और युवाओं के कल्याण के लिए काम करेगी। इस बीच, निर्वाचन आयोग ने त्रिपुरा में स्‍वतंत्र और निष्‍पक्ष चुनाव के लिए सभी तैयारियां कर ली है। मतदान 18 फरवरी को होगा। उधर नगालैंड और मेघालय में सोमवार को नामांकन वापस लेने का आखिरी दिन था।

यहां सत्तारुढ़ नागा पीपल्स फ्रंट सबसे ज्यादा 59 सीटों पर चुनाव लड़ रही है जबकि नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी 40 सीटों पर और बीजेपी एनडीपीपी के साथ चुनाव पूर्व हुए गढबंधन के तहत 20 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। मेघालय में बीजेपी पूरा दमखम लगा रही है और सत्तारूढ कांग्रेस को कड़ी टक्कर दे रही है। बीजेपी ने सभी साठ सीटों पर अपने प्रत्याशी उतारने का फैसला किया है कि है जबकि कांग्रेस 57 सीटों पर चुनाव लड़ेगी, इसके अलावा यहां एनसीपी, गारो नेशलनल कांउसिल और अन्य दल भी चुनाव मैदान में हैं।

नगालैंड और मेघालय में 27 फरवरी को होने वाला विधानसभा चुनाव स्वतंत्र और निष्पक्ष हों इसके लिए पर्याप्त इंतजाम किए गए हैं। नगालैंड में केन्द्रीय सशस्त्र पुलिस बल की 281 कंपनियां तैनात की जाएंगी। राज्य के मुख्य निर्वाचन कार्यालय ने ये जानकारी दी। इधर मेघालय में विधानसभा चुनावों के दौरान शांति और व्यवस्था बनाए रखने के लिए केंद्रीय बलों की सौ कंपनियां तैनात की जा रही हैं।

मुख्य चुनाव अधिकारी एफ आर खारकोंगर ने बताया कि राज्य में 20 कंपनियां पहले ही पहुंच चुकी हैं और शेष 80 कंपनियां त्रिपुरा में विधानसभा चुनावों के बाद पहुंच जाएंगी। उन्होंने कहा कि सुचारू चुनाव के लिए सभी सुरक्षा इंतजाम किये गये हैं। राज्य में कुल तीन हजार 82 मतदान केन्द्र होंगे, जिनमें से 67 को अतिसंवेदनशील और 546 को संवेदनशील घोषित किया गया है । सभी राज्यों में वोटों की गिनती तीन मार्च को होगी जब जनता का फैसला सामने आएगा।