प्रधानमंत्री मोदी और नीदरलैंड के प्रधानमंत्री के बीच दिल्ली में द्विपक्षीय वार्ता

शेयर करें:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रट के बीच दिल्ली में द्विपक्षीय वार्ता के साथ-साथ क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर हुई चर्चा। नीदरलैंड के अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन में शामिल होने पर पीएम मोदी ने जताई खुशी।

नीदरलैंड के प्रधानमंत्री मार्क रट की आज दिल्ली में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से दोनों देशों को लेकर द्विपक्षीय वार्ता हुई। जिसमें कृषि, खाद्य संस्करण, बागवानी, जल प्रबंधन, विज्ञान और स्वास्थ्य समेत कई अहम क्षेत्रों के बीच सहयोग को मजबूत करने पर चर्चा हुई है। दोनों नेताओं के बीच क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर भी बातचीत हुई है।

मार्क रट दो दिन की भारत यात्रा पर हैं और उनकी इस यात्रा का मकसद दोनों देशों के बीच आर्थिक और राजनीतिक सहयोग को और मजबूती देना है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नीदरलैंड यात्रा के एक साल के भीतर नीदरलैंड के प्रधानमंत्री भारत के दौरे पर आए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने पिछले साल जून में नीदरलैंड की यात्रा की थी।

दोनों देशों के बीच पांच अरब उनतालीस करोड़ डॉलर का आपसी व्यापार है। नीदरलैंड भारत में पांचवां सबसे बड़ा निवेशक है। नीदरलैंड में भारतीय मूल के दो लाख पैंतीस हज़ार लोग रहते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के पीएम मार्क रूट के साथ हुई मुलाकात को काफी महत्वपूर्ण बताते हुए कहा कि दोनों देशों ने द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा के साथ साथ क्षेत्रिय और वैश्विक मुद्दो पर चर्चा की।

पीएम मोदी ने नीदरलैंड के इंटरनैशनल सोलर अलायंस में शामिल होने के उनके अनुरोध को स्वीकार्य करने पर खुशी जाहिर करते हुए कहा कि भारत और नीदरलैंड के बीच संबंधों में नये अध्याय की शुरूआत हुई है। भारत को बदलने में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की तारीफ करते हुए नीदरलैंड के पीएम मार्क रूट ने कहा कि जिस प्रकार भारत ने विकास के रास्ते को तय किया वह सीखने लायक है।

इससे पहले नीदरलैंड के प्रधानमंत्री ने भारतीय व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल के साथ भी चर्चा की। इसके अलावा इंडो-डच गंगा फोरम की ओर से आयोजित एक सेमिनार में नीदरलैंड के प्रधानमंत्री और भारत के प्रतिनिधियों सहित गंगा से जुड़ी कई संस्थाओं ने हिस्सा लिया। इस मौके पर मार्क रट ने नमामि गंगे प्रोजेक्ट की सराहना करते हुये कहा कि नीदरलैंड गंगा की सफाई में सहयोग देने के लिये पूरी तरह तैयार है।