जीएसटी में कमी का ग्राहकों को मिले लाभ: सीबीईसी

शेयर करें:

सरकार ने खुदरा विक्रेताओं और एफएमसीजी उत्पादकों से की अपील, कहा टैक्स में कमी का फायदा आम जनता को मिले। सीबीईसी के अध्यक्ष ने सभी प्रमुख फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स कंपनियों को एक पत्र को लिखा है, जिसमें सभी उत्पादों पर तुरंत एमआरपी को संशोधित करने की जरुरत पर दिया है जोर।

एफएमसीजी फर्मों और बड़े कंपनियों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि खुदरा विक्रेता जीएसटी दर मे कमी का फायदा उपभोक्ताओं तक पहुंचाये। सरकार ने खुदरा विक्रेताओं और एफएमसीजी उत्पादकों से अपील की है कि टैक्स में कमी का फायदा आम जनता को भी मिलना चाहिये। सीबीईसी के अध्यक्ष ने सभी प्रमुख फास्ट-मूविंग कंज्यूमर गुड्स कंपनियों को एक पत्र को लिखा है, जिसमें सभी उत्पादों पर तुरंत एमआरपी को संशोधित करने की जरुरत पर जोर दिया है।

विशेषकर उनमें, जिसमें जीएसटी की कमी की घोषणा की गई है। जीएसटी परिषद ने अपनी पिछली बैठक में 200 से अधिक उत्पादों पर कर की दरें कम कर दी हैं। इनमें से 178 सामान, ज्यादातर एफएमसीजी उत्पाद, को 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत स्लैब के दायरे में लाया गया है।संशोधित कर की दरें 15 नवंबर से लागू हुई हैं