अंतर्राष्ट्रीय एस्टॉरायड दिवस 30 जून : क्षुद्रग्रहों प्रचुर मात्रा में रखते हैं संसाधन जो आता है मानव जाति के के लिए काम

शेयर करें:

आदर्श योग आध्यात्मिक केंद्र स्वर्ण जयंती पार्क कोलार रोड़ भोपाल के संचालक योग गुरु महेश अग्रवाल ने बताया कि संयुक्त राष्ट्र ने क्षुद्रग्रह (एस्टॉरायड) के खतरे को लेकर जागरूकता बढ़ाने के लिए 30 जून, 2017 से ‘अंतर्राष्ट्रीय क्षुद्रग्रह दिवस’ मनाने की घोषणा की थी.

दरअसल, 30 जून 1908 को रूस की तुंगुस्का नदी के पास बहुत बड़ा विस्फोट हुआ था, जिसे क्षुद्रग्रह के चलते धरती पर हुआ अब तक का सबसे बड़ा नुकसान बताया जाता है. इसी कारण क्षुद्रग्रह के खतरे को लेकर जागरूक करने के लिए 30 जून को क्षुद्रग्रह दिवस मनाने की शुरुआत हुई.

लोगों के बीच क्षुद्रग्रह को लेकर जागरूकता बढ़ाने और इससे होने वाले खतरे को लेकर युवा पीढ़ी को बचाने और उन्हें इससे होने वाली भयानक घटना को विस्तार से समझाने के लिए क्षुद्रग्रह दिवस को प्रत्येक साल मनाया जाता है. आपको जानकर हैरानी होगी, लेकिन कई क्षुद्रग्रहों का आकार इतना बड़ा होता है कि वे पूरी पृथ्वी को भी नष्ट कर सकते हैं.

एक क्षुद्रग्रह कंकड़ के दानें से लेकर 600 मील की चौड़ाई तक का हो सकता है. क्षुद्रग्रह बड़े पैमाने पर सैकड़ों किलोमीटर विस्तृत क्षेत्र में सूर्य की परिक्रमा करते हैं. क्षुद्रग्रह के टूटकर पृथ्वी पर गिरने से बड़ा नुकसान हो सकता है. क्या होता है एस्टॉरायड डे सौरमंडल में मंगल और बृहस्पति के बीच में बहुत से ऐसे खगोलीय पिंड विचरण करते रहते हैं, जो अपने आकार में ग्रहों से छोटे और उल्का पिंडो से बड़े होते हैं.

ये सौर प्रणाली के निर्माण के समय बने चट्टानी पिंड हैं, जिसे क्षुद्रग्रह कहा जाता है. क्षुद्रग्रह बड़े पैमाने पर सैकड़ों किलोमीटर विस्तृत क्षेत्र में सूर्य की परिक्रमा करते हैं. कई लोग क्षुद्रग्रह को ही उल्का पिंड भी कहते हैं, लेकिन जब कोई क्षुद्रग्रह सूर्य का चक्कर लगाने के बाद पृथ्वी पर गिरकर बच जाता है तो उसे उल्का पिंड कहते हैं. वहीं जो क्षुद्रग्रह पृथ्वी से टकराने से पहले ही सौर ऊर्जा से जल जाते हैं, उन्हें उल्कापात्र कहा जाता है. यह प्रक्रिया निरंतर चलती रहती है. हालांकि, भारत में क्षुद्रग्रह की पृथ्वी से टकराने की घटनाएं काफी कम होती हैं.

क्षुद्रग्रह छोटे आकार के ग्रह हैं जो हमारे सौर मंडल के आतंरिक हिस्सों में पाए जाते हैं। ये सूर्य के चक्कर लगते हुए पाए जाते हैं। इनका आकार सामान्य ग्रहों के मुकाबले बहुत छोटा होता है और ये ग्रहों के परिभाषा को ठीक तरह से उचित साबित नहीं करते, जिस कारण इन्हें क्षुदग्रह नाम दिया गया।

मानव जीवन की उत्पत्ति और पृथ्वी के विकास के बारे में मुख्य रहस्य रखने के अलावा क्षुद्रग्रहों के बारे में यह भी माना जाता है कि वे प्रचुर मात्रा में संसाधन रखते हैं, जो मानव जाति के उपयोग के लिए काम आ सकते हैं. खगोलीय वस्तु ऐसी वस्तु को कहा जाता है जो ब्रह्माण्ड में प्राकृतिक रूप से पायी जाती है, यानि जिसकी रचना मनुष्यों ने नहीं की होती है। इसमें तारे, ग्रह, प्राकृतिक उपग्रह, गैलेक्सी, उल्का पिंड, ब्लैक होल, पल्सर, आदि।