विद्युत लाईनों या ट्रांसफार्मर के पास दुर्गा पंडाल न बनाने की अपील

शेयर करें:

बालाघाट @ आर पी मिश्रा कार्यपालन अभियंता संचालन एवं संधारण संभाग म. प्र. क्षे. वि वि क. लि. बालाघाट द्वारा आगामी दुर्गोत्सव के परिप्रेक्ष्य में सभी दुर्गा उत्सव समितियों से अपील की गई है कि दुर्गा पंडालों का निर्माण विद्युत लाइनों के नीचे या पास में एवं ट्रासफार्मर के निकट न किया जावें। विद्युत लाइनों एवं ट्रांसफार्मरों से नियमानुसार सुरक्षित दूरी पर ही दुर्गा पंडालों का निर्माण किया जावें। विद्युत ट्रासफार्मरों के समीप या विद्युत लाइनों के निकट अथवा नीचे दुर्गा पंडालों का निर्माण निर्धारित मापदंड अनुसार न करने पर सबंधित के विरूद्ध नियमों के अनुसार कड़ी कार्यवाही की जावेगी।

इस संबंध में की गई अपील में कहा गया है कि दुर्गा पडालों में विद्युत का उपयोग विधिवत अस्थाई विद्युत कनेक्शन लेकर ही करें। अनाधिकृत रूप् से तारों को विद्युत लाइनों से जोडकर विद्युत का उपयोग न करें। ऐसा पाये जाने पर भारतीय विद्युत अधिकनयम 2003 के तहत संबंधित के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी। अनाधिकृत रूप् से विद्युत लाइनों सें तार जोडने की स्थिति में अन्य उपभोक्ताओं को विद्युत व्यवधानों का सामना करना पडता है।

पंडाल में विद्युत कनेक्शन करने वाले विद्युत ठेकेदार को समझाईश देने कहा गया है कि वह विद्युत आपूर्ति का स्वीच बोर्ड सुरक्षित स्थान पर स्थापित करे एवं पंडाल के पास नियमानुसार अर्थिग कराई जावे जिससे किसी प्रकार की विद्युत दुर्घटना घटित न हो। पंडाल के कनेक्शन के विद्युत भार को तीनो फेस पर बराबर बांटा जावें ताकि किसी एक फेश पर अत्याधिक भार होने के कारण विद्युत व्यवधान उत्पन्न न हो। अस्थाई कनेक्शन हेतु सर्विस लाईन एवं पंडाल के भीतर विद्युत साज सज्जा हेतु वायर उचित क्षमता के एवं पूर्णरूपेण इंस्युलेटेड होने चाहिए।

आयोजकों से कहा गया हैकि सुरक्षा की दृष्टि से कटे फटे एवं टूटे वायरों का उपयोग न करें। तारों के जोडो को इस्युलेटेड टेप के माध्यम से सुरक्षित किया जावें। दुर्गा पंडालों के सामने एवं आस पास लगाए जाने वाले तोरण को विद्युत लाइनों एवं पोलो पर न बांधते हुए उनसे दूर लगाया जावें। क्योकि वर्षाकाल में इन तोरणों के विद्युत लाइनों के सम्पर्क में आने के कारण अनावश्यक विद्युत व्यवधान उत्पन्न होते है। व उपभोक्ताओं को परेशानियों का सामना करना पडता है। सभी आयोजकों से कहा गया है कि असुविधा से बचने हेतु विद्युत का वैधानिक उपयोग करें।