अमृतसर रेल हादसा : रावण दहन देखने गए लोग दो ट्रेन की चपेट में आ जाने से 60 से अधिक की मौत, 150 घायल

शेयर करें:

पंजाब में अमृतसर के निकट शुक्रवार शाम रावण दहन देखने के लिए रेल की पटरी पर खड़े लोगों के दो ट्रेन की चपेट में आने से 60 से अधिक लोग मारे गए। करीब 150 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। हादसे में मरने वालों में कई बच्चे व महिलाएं भी शामिल हैं। प्रशासनिक अधिकारी भी मौके पर पहुंच चुके हैं। यहां जोडा रेलवे फाटक के पास आयोजित दशहरा कार्यक्रम के दौरान रावण का जलता हुआ पुतला नीचे गिरने लगा। इससे वहां भगदड़ मच गई आैर लोग बचने के लिए पीछे रेलवे लाइन की ओर भागे। इसी दौरान लोग अमृतसर-हावड़ा मेल की चपेट में आ गए। घटनास्थल पर चीख पुकार मच गई। जब तक लोग संभलते साथ लगते ट्रैक पर भी तेज रफ्तार जालंधर-अमृतसर डीएमयू आ गई और इसे कई लोगों को अपनी चपेट में ले लिया।

पीएम मोदी व सीएम अमरिंदर ने सहायता राशियों का ऐलान किया

देर रात अमृतसर के सिविल अस्‍पताल मुख्‍य चिकित्‍सा अधिकारी ने कहा कि हादसे में 60 मारे गए हैं और 51 घायल हैं। मुख्‍समंत्री कैपटन अमरिंदर सिंह न हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये की सहायता देने की घोषणा की है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हादसे मेें मारे गए लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 50 हजार रुपये की सहायता देने का ऐलान किया।

मेडिकल सुविधाओं में कहीं कोई कमी न हो, नोडल अधिकारी तैनात

हादसे के बाद वहां कोहराम और चीख-पुकार मच गई। घटनास्‍थल का दृश्‍य बेहद मर्माहत व‍ दिल को दहला देने वाला था। हादसे के शिकार हुए लोगों में किसी का सिर धड़ से अलग हाे गया तो किसी के हाथ-पैर कट गए। रेलवे ट्रैक पर लाशें बिखरी पड़ी थीं। घायलों को सिविल अस्‍पताल व अन्‍य अस्‍पतालों में दाखिल कराया गया है।

इस बीच, पीएम नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री राजनाथ सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने हादसे पर दुख जताया है। उधर, मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह अपना इजराइल दौरा रद करते हुए दिल्ली से कल सुबह अमृतसर पहुंचेंगे। कैप्टन के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल ने कहा कि मृतकों के परिजनों को पांच लाख रुपये की सहायता देने का एलान किया गया है। रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। कहा कि वह स्वयं मौके पर जा रहे हैं। वह मौके पर जाने के बाद ही हादसे के बारे में ज्यादा कुछ बता पाएंगे।

घटनास्थल पर राहत कार्य में जुटे लोग

रावण के पुतले से चिंगारियां निकलने के कारण वहां अफरातफरी मच गई। जलते पुतले से बचने के लिए लोगों में भगदड़ मच गई। लोग बचने के लिए रेलवे ट्रैक की तरफ भागे, लेकिन इसी दौरान सामने से एक ट्रेन आ गई। लोग कुछ कर पाते उससे पहले ही पटरी पर चढ़े लोगाें काे रौंदती हुई ट्रेन आगे निकल गई। इसके बाद तो वहां कोहराम मच गया। पटरी और इसके आसपास क्षत-विक्षत शव पड़े थे।किसी का सिर कट धड़ से अलग हो गया था तो किसी के हाथ और किसी का पैर शरीर से अलग हो गया था। इसके बाद चारों तरफ चीख-पुकार और कोहराम मच गया।

हादसे में 60 से अधिक लोगाें की मौत हुई है। यह संख्‍या बढ़ सकती है। सैकड़ों लोग घायल हुए हैं और उनको विभिन्‍न अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। घटनास्‍थल और अस्‍पतालों में मारे गए लोगों और घायलाें के परिजनों की चीख-पुकार दिल का दहला रही है। हादसे के बाद लोग अपनों की तलाशी में जुट गए। मरने वालों में कई बच्चे व महिलाएं भी शामिल हैं। प्रशासनिक अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए और राहत व बचाव का कार्य शुरू कर दिया गया।

ड्राइवर को हादसे का फगवाड़ा में चला पता

अमृतसर-हावड़ा ट्रेन के ड्राइवर को करीब डेढ़ घंटे बाद फगवाड़ा पहुंचने पर हादसे की जानकारी मिली। रेलवे अधिकारियों से हादसे के बारे में पता चलने पर ड्राइवर व गार्ड परेशान हो गए। जैसे ही ट्रेन लुधियाना रेलवे स्टेशन पर पहुंची तो रेलवे अधिकारियों ने गार्ड और ड्राइवर को उतारकर जांच शुरू कर दी। अधिकारियों ने ट्रेन की तकनीकी जांच कर दूसरे स्टाफ के साथ रवाना कर दिया। रेलवे अधिकारियों के सामने ड्राइवर अपनी सफाई देता रहा। उसका कहना था कि जब ट्रेन वहां से निकली तो उस समय ट्रैक साफ था और उसकी ट्रेन से कोई हादसा नहीं हुआ। रेलवे अधिकारियों ने ड्राइवर से गहन पूछताछ शुरू कर दी।

हेल्पलाइन नंबर जारी

रेलवे ने घायलों व मृतकों के बारे में जानकारी के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी कर दिया है।

मानावाला स्टेशन हेल्पलाइन नंबर रेलवे -73325, बीएसएनएल – 0183-2440024

पॉवर केबिन अमृतसर रेलवे – 72820, बीएसएनएल – 0183-2402927

विजय सहोता, एसएसई: 79 86897301

विजय पटेल, एसएसई: 7 9 73657316

पांच-पांच लाख रुपये मुआवजा

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने गृह सचिव, स्वास्थ्य सचिव व एडीजीपी लॉ एंड ऑर्डर को तत्काल अमृतसर पहुंचने के आदेश दिए हैं। उन्होंने मारे गए लोगों के आश्रितों को पांच-पांच लाख रुपये मुआवजा देने की घोषणा की।

घायलों का हालचाल जानने पहुंचे सांसद, मृतकों के परिजनों ने किया सांसद का विरोध

इस बीच, गुरु नानक देव अस्पताल में दाखिल घायलों का हालचाल जानने सांसद गुरजीत सिंह औजला पहुंचे, लेकिन मृतकों के पारिजनों के आक्रोश के कारण सांसद को वहां से जाना पड़ा।

सरकार व प्रशासन की लापरवाही: सुखबीर

शिरोमणि अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर बादल ने कहा कि यह हादसा सरकार और प्रशासन की लापरवाही से हुआ है। ट्रैक के इतने नजदीक रावण दहन की अनुमति कैसे दी गई। दोषियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

पीएम और राष्ट्रपति ने जताया शोक

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमृतसर में हुए हादसे पर गहरा दुख व्यक्त किया है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर कहा है कि यह घटना बहुत ही हृदयविदारक है। उन्होंने पीडि़त परिवारों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हुए घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना क