कांग्रेस से इस्तीफा देंगे अमरिंदर पर भाजपा में नहीं होंगे शामिल, डोभाल से भी मिले अमरिंदर

शेयर करें:

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़ा ऐलान करते हुए कहा कि वे कांग्रेस छोड़ने जा रहे हैं। NDTV से बात करते हुए उन्होंने कहा कि वे भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं, लेकिन कांग्रेस को छोड़ रहे हैं। उन्होंने कहा, “अभी तक मैं कांग्रेस में हूं, लेकिन मैं कांग्रेस में नहीं रहूंगा। मैं ये अपमान नहीं सहूंगा।” खबर है कि अमरिंदर अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के खिलाफ प्रचार भी कर सकते हैं।

52 साल बाद भी भरोसा नहीं तो पार्टी में रहने का क्या मतलब- अमरिंदर
अपने इंटरव्यू में कांग्रेस पर तीखा हमला बोलते हुए अमरिंदर ने कहा, “मैं 52 साल से राजनीति में हूं। जिस तरीके से मेरे साथ व्यवहार किया गया। सुबह 10:30 बजे कांग्रेस अध्यक्ष ने मुझसे इस्तीफा देने को कहा। मैंने कोई सवाल नहीं किया। शाम 4 बजे मैं राज्यपाल के पास गया और इस्तीफा दे दिया। अगर आप 50 साल बाद भी मुझ पर शक करते हो और मेरी विश्वसनीयता दांव पर है तो पार्टी में रहने का क्या मतलब है?”

अमरिंदर बोले- मैं ऐसा व्यवहार सहन नहीं करूंगा
अमरिंदर ने आगे कहा, “मैंने कांग्रेस को साफ कर दिया था कि मेरे साथ ऐसा व्यवहार नहीं किया जाएगा। मैं ये सहन नहीं करूंगा। मैंने अभी तक कांग्रेस से इस्तीफा नहीं दिया है, लेकिन कोई ऐसी जगह पर कैसे रह सकता है जहां भरोसे की कमी है। जब कोई भरोसा नहीं है तो मैं नहीं रह सकता।” भाजपा में शामिल होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि वह भाजपा में शामिल नहीं हो रहे हैं।

अमरिंदर ने सिद्धू पर भी जमकर हमला बोला
कांग्रेस में अपने विरोधी नवजोत सिंह सिद्धू पर भी हमला बोलते हुए अमरिंदर ने कहा, “सिद्धू एक अपरिपक्व व्यक्ति है। मैं कई बार कह चुका हूं कि वो स्थिर नहीं है। वह टीम प्लेयर नहीं है… वो प्रमुख के नाते पंजाब कांग्रेस को कैसे संभालेगा?” सिद्धू को बचकाना बताते हुए उन्होंने कहा, “सिद्धू केवल तमाशा करने में माहिर है। वो केवल वही कर सकता है जो वो कपिल शर्मा के शो में करता था, लेकिन वो गंभीर नहीं है।”

कैप्टन ने विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार का अनुमान लगाया
अमरिंदर ने आगामी विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की हार का अनुमान भी लगाया। उन्होंने कहा, “कांग्रेस नीचे जा रही है। कांग्रेस द्वारा जुलाई और सितंबर में किए गए हालिया सर्वे में आम आदमी पार्टी (AAP) ऊपर आ रही है और कांग्रेस नीचे जा रही है। इस सर्वे के अनुसार, कांग्रेस को 20 प्रतिशत का नुकसान हुआ है। कांग्रेस, अकाली दल, AAP, अकाली दल के गुटों और एक और फ्रंट के कारण ये चुनाव बहुत अलग होगा।”

कल अमित शाह से मिले थे अमरिंदर सिंह
अमरिंदर ने कांग्रेस छोड़ने का ऐलान ऐसे समय पर किया है जब वे दिल्ली आए हुए हैं और उन्होंने कल ही गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात की थी। दोनों नेताओं के बीच ये बैठक एक घंटे तक चली। बैठक के बाद से ही अटकलें लगाई जा रही थीं कि अमरिंदर भाजपा में शामिल होने की संभावना तलाश रहे हैं, हालांकि उनकी टीम ने ऐसी किसी भी संभावना को खारिज किया था।

डोभाल से भी मिले थे अमरिंदर, कांग्रेस कर रही थी मनाने के प्रयास
अमरिंदर आज सुबह राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल से भी मिले थे और राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित मुद्दों पर चर्चा की थी। दूसरी तरफ कांग्रेस ने भी उन्हें मनाने के प्रयास तेज कर दिए थे और इसके लिए अंबिका सोनी और कमलनाथ को काम पर लगाया गया था। दोनों ने अमरिंदर को मनाने के प्रयास भी किए, हालांकि ये प्रयास रंग नहीं लाए और अमरिंदर ने कांग्रेस छोड़ने का ऐलान कर दिया है।