ऐश्‍वर्या रॉय बच्‍चन जो है भारत की हाईप्रोफाइल सेलिब्रिटीज

शेयर करें:

भारतीय फिल्‍मअभिनेत्री ऐश्‍वर्या रॉय बच्‍चन 1994 की मिस वर्ल्‍ड प्रतियोगिता की विजेता रही है। आप सभी अच्छी तरह जानते ही होंगे, बॉलीवुड में उनका करियर शानदार रहा है।

उसे कई पुरस्‍कारों से भी नवाजा जा चुका है। उसे 2 बार ‘फिल्‍म फेयर पुरस्‍कार’भी मिल चुका है। भारत सरकार की ओर से 2009 में पद्मश्री और 2012 में फ्रांस सर‍कार की ओर से ‘औरड्रे डेस आर्टस एट डेस लेट्रेस’ से  सम्‍मानित किया जा चुका है। वह दुनिया की सबसे खूबसूरत महिला मानी जाती हैं।

विश्व की तमाम सुन्दरियों में भारत से ऐश्वर्या राय का मिस वर्ल्ड बनना एक शानदार सरप्राइज़ से कम नहीं था।दशकों से यह खिताब भारतीय सुन्दरी को प्राप्त नहीं हो पाया था। इसी प्रतियोगिता में उसकी खूबसूरती और बुद्धिमत्ता से प्रकट हो गया था कि एक दिन यह प्रसिद्धि के चरम शिखर को अवश्य छुएगी।

उसको मॉडलिंग का पहला प्रस्ताव कैमलिन कंपनी की ओर से तब मिला जब वह नवीं कक्षा की छात्रा थीं। इसके बाद वो कोक, फूजी और पेप्सी के विज्ञापन में दिखीं। और १९९४ में मिस वर्ल्ड बनने के बाद उनकी माँग काफी बढी़ और उन्हें कई फिल्मों के प्रस्ताव मिले।

उनकी पहली फिल्म इरुवर तमिल में बनी जिसे मणिरत्नम ने निर्देशित किया। 2000 में राजीव मेनन द्वारा बनी एक फिल्म कंडूकोंडिन कंडूकोंडिन काफी मशहूर हुई।

हिन्दी में उनकी पहली फिल्म और प्यार हो गया थी, हिन्दी फिल्मों में उनका सिक्का संजय लीला भंसाली द्वारा बनायी गयी फिल्म हम दिल दे चुके सनम से जमा और तब से उनकी फिल्में ज्यादातर हिन्दी में ही बनी।

2002 में संजय लीला भंसाली द्वारा बनाई फिल्म देवदास में भी उन्होने काम किया। इसके अलवा उन्होंने कुछ बांग्ला फिल्में की हैं। सन 2004 में ही पहली बार उन्होंने गुरिंदर चड्ढा की एक अंग्रेजी फिल्म ब्राइड ऐंड प्रेज्यूडिस में काम किया। 2006 में उनकी प्रमुख फिल्मे रही मिसट्रेस ऑफ स्पाइसेस, धूम २ और उमराव जान। इसके बाद आई फिल्‍म ‘ताल’ में भी उसकी परफॉर्मेंस को काफी सराहा गया।

नामांकन और पुरस्कार:- फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार 2003 – देवदास, 2000 में हम दिल दे चुके सनम, अंतर्राष्ट्रीय भारतीय फ़िल्म अकादमी पुरस्कार :- आई आई एफ ए सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री पुरस्कार 2003 हम दिल दे चुके सनम- देवदास 2000 – ज़ी सिने पुरस्कार। 2000 – लक्स वर्ष का चेहरा पुरस्कार – हम दिल दे चुके सनम

देवदास :- देवदास फिल्म में पारो के रोल में छा गईं रॉय और मिली विदेशों में भी ख्‍याति- ‘हम दिल दे चुके सनम’ के बाद एक बार फिर ऐश्‍वर्या ने संजय लीला भंसाली के साथ ‘देवदास’ में काम किया।

फिल्‍म को 2002 के कांस फिल्‍म समारोह में भी दिखाया गया और टाईम मैगजीन ने इसे मिलेनियम की 10 सर्वश्रेष्‍ठ फिल्‍मों में से एक बताया।

भारत में इस फिल्‍म को 10 फिल्‍मफेयर पुरस्‍कार मिले जिसमें से ऐश्‍वर्या को दूसरी बार सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेत्री का फिल्‍मफेयर पुरस्‍कार भी शामिल है।

इसके बाद आई फिल्‍म ‘दिल का रिश्‍ता’ और ‘कुछ न कहो’ कुछ खास कमाल नहीं कर पाईं। वहीं इसके बाद आई फिल्‍म ‘खाकी’ के दौरान एक चलती गाड़ी ने उन्‍हें टक्‍कर मार दी जिससे उनका पैर फ्रैक्‍चर हो गया।

2005 में आई फिल्‍म ‘बंटी और बबली’ का एक गाना ‘कजरा रे कजरा रे’ बहुत ज्‍यादा पापुलर हुआ।

इसके बाद आई ‘उमराव जान’ कुछ खास कमाल तो नहीं कर सकी लेकिन ऐश्‍वर्या के काम को सराहा गया। उसी साल उनकी धूम 2 भी रिलीज हुई जिसे सभी ने काफी पसंद किया और रितिक और ऐश्‍वर्या की जोड़ी ने पर्दे पर आग लगा दी। फिल्‍म बड़ी ब्‍लाकबस्‍टर साबित हुई।

2007 में रिलीज हुई ‘गुरू’ में वे अभिषेक बच्‍चन के साथ पर्दे पर दिखाई दीं। फिल्‍म को अंतर्राष्‍ट्रीय स्‍तर पर सराहना मिली और बॉक्‍स ऑफिस पर भी फिल्‍म ने अच्‍छा कारोबार किया।

वहीं इसके बाद भी उन्‍होंने कई फिल्‍मों में काम किया लकिन वे खास कमाल नहीं दिखा पाईं। फिल्‍म ‘रावन’ ने उनका अभिनय बेहतर था लेकिन फिल्‍म ज्‍यादा चल नहीं पाई।

इसके बाद 2010 में उनकी फिल्‍म ‘गुजारिश’ थी जिसमें एक बार फिर वे रितिक रोशन के साथ दिखाई दीं। इस फिल्‍म के निर्देशक संजय लीला भंसाली थे। फिल्‍म बॉक्‍स ऑफिस पर तो औंधे मुंह गिर गई लेकिन आलोचकों से इसे अच्‍छा रेस्‍पांस मिला।

‘जोधा अकबर’से भी ऐश्वर्या को बहुत ख्याति मिली। जज़्बा, सरबजीत और ‘ऐ दिल है मुश्किल’ फिल्म में भी उसने अपनी उत्तम उपस्थिति दर्ज कराई।

नृत्‍य में भी हैं पारंगत- बचपन में उन्‍होंने पांच साल तक क्‍लासिकल डांस और संगीत की ट्रेनिंग ली।

शादी-


रॉय ने 2007 में अभिनेता अभिषेक बच्‍चन से शादी की जिनसे उन्‍हें एक बच्‍ची है-आराध्‍या। यह शादी भारत की हाईप्रोफाइल शादियों में से एक रही जिसमें केवल गिने-चुने लोगों को ही न्‍यौता दिया गया। शादी को बकायदा रीति-रिवाज के साथ संपन्‍न कराया गया। इन दोनों की प्यारी सी बेटी आराध्या मीडिया का आकर्षण बनी रहती है।

आज ऐश्वर्या भारतीय सिनेमा की सबसे महंगी अभिनेत्रियों में से एक है और भारत की सबसे धनी महिलाओं में शामिल हैं। दुनिया भर में उनके चाहने वालों ने ऐश्वर्या को समर्पित लगभग 17,000 इंटरनेट साइट बना रखे हैं और उनकी गिनती दुनिया के सबसे खूबसूरत महिलाओं में की जाती है। टाईम पत्रिका ने वर्ष 2004 में उन्हें दुनिया की सबसे प्रभावशाली महिलाओं में भी शुमार किया है।

चाहें पारम्परिक भारतीय वेशभूषा हो, या अत्याधुनिका या साधारण स्त्री हो, सबका रोल बखूबी निभाते निभाते ऐश्वर्या राय उसमें इतनी रच बस जाती है,कि समकालीन छोटी उम्र की अभिनेत्रियों से भी आगे निकल जाती है।

सौन्दर्य और बुद्धिमत्ता का अपूर्व संगम ऐश्वर्या राय पैंतालीस वर्ष की आयु के बावजूद कम आयु की लगती है जिसका श्रेय वह अपनी सकारात्मकता, प्रार्थना, योग और नियमित व्यायाम को देती है।