एम्स डायरेक्टर ने चेताया, हल्के लक्षण होने पर सीटी स्कैन न कराएं, ये तीन सौ चैस्ट एक्सरे के बराबर

शेयर करें:

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच एम्स डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने साफ किया है कि अगर मरीज को हल्के लक्षण हैं तो उसे कतई सीटी स्कैन कराने की जरूरत नहीं है. ऐसा करना उसके लिए नुकसानदेह साबित हो सकता है और इससे कैंसर होने की आशंका भी प्रबल हो जाती है. गुलेरिया ने कहा कि सीटी स्कैन का हल्के लक्षणों में इस्तेमाल बेकार है.

दरअसल एक सीटी स्कैन तीन सौ चेस्ट एक्स रे के बराबर होता है. ये काफी नुकसानदायक है. गुलेरिया ने चेताया कि लोगों के बार-बार सीटी स्कैन कराने की ये कोशिशें काफी नुकसानदायक साबित हो रही हैं. ऐसा करके दरअसल वो अपने आप को नुकसान ही पहुंचा रहे हैं. गुलेरिया ने चेताय़ा कि जितना ज्यादा आप रेडिएशन के संपर्क में आएंगे उतना ज्यादा आपके कैंसर होने की आशंका बढ़ती चली जाएगी.

रेमेडेसिविर को लेकर भी चेता चुके हैं गुलेरिया

एम्स डायरेक्टर ने घर पर आइसोलेट लोगों को सलाह ही है कि वो लगातार अपने चिकित्सक से संपर्क में बने रहें. ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा है या फिर बेहोशी महसूस हो रही है तो फिर सीधे अपने चिकित्सक से बातचीन करें. गौरतलब है कि डॉक्टर गुलेरिया पूर्व मे रेमडेसिविर के अंधाधुध इस्तेमाल को लेकर भी आगाह कर चुके हैं. उनका कहना है कि रेमडेसिविर गंभीर कोरोना मामलों लाइफ सेविंग दवा नहीं है. उसे डॉक्टर अत्यिधक बार लिखने से परहेज करें.