किसान आंदोलन पर कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही का बयान-कोई नासमझ है तो उसका कोई इलाज नहीं

शेयर करें:

प्रयागराज. कृषि सुधार कानूनों को लेकर किसान संगठनों के जारी आन्दोलन को लेकर सूबे के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने कहा है कि सरकार ने आन्दोलनरत किसानों को समझाने की बहुत कोशिश की है, लेकिन कोई अगर नासमझ है तो उसका कोई इलाज नहीं है. कृषि मंत्री ने केन्द्र सरकार द्वारा लाये गए तीनों कृषि सुधार कानूनों किसानों के हित में बताते हुए कहा है कि कुछ लोग किसानों को लगातार गुमराह कर गलत तथ्यों पर बातचीत कर रहे हैं.

उन्होंने कहा है कि यूपी सरकार किसानों को जागरुक करने के लिए ही किसान मेलों का आयोजन कर रही है. ताकि किसानों के लिए केन्द्र व राज्य सरकार की योजनाओं की सही जानकारी और लाभ किसानों तक पहुंचाया जा सके. प्रयागराज में चल रहे माघ मेले में नौ दिवसीय कृषि मेले का शुभारम्भ करने पहुंचे कृषि मंत्री ने कहा है कि सरकार किसानों की बेहतरी के लिए काम कर रही है. किसानों को उन्नत बीज और सब्सिडी पर कृषि यंत्र मुहैया कराये गए हैं.

इसके साथ ही यूपी में पीएम किसान निधि के तहत दो करोड़ 35 लाख किसानों के खाते में 27 हजार करोड़ की धनराशि पौने दो साल के अंदर भेजी गई है. कृषि मंत्री ने कहा है कि सरकार की कोशिश है कि किसानों की उत्पादकता बढ़े और उसकी खरीद की भी सरकार ने व्यापक पैमाने पर व्यवस्था की है.

किसानों को तकनीकी के साथ जोड़ते हुए उन्नत खेती के लिए कृषि वैज्ञानिकों के साथ भी जोड़ा जा रहा है. उन्होंने कहा है कि तीन वर्षों में प्रदेश सरकार की सहायता से तीस हजार सोलर पंप किसानों ने लगाये हैं. इसके साथ ही डेढ़ लाख कृषि यंत्रों पर किसानों को सब्सिडी दी गई है.