अधिवक्ता हत्याकाण्ड: पांच लाख की सुपारी दी थी होटल मालिक प्रदीप जायसवाल ने, एक शूटर की गिरफ्तारी से खुला राज

शेयर करें:

इलाहाबाद। अधिवक्ता राजेश श्रीवास्तव हत्याकाण्ड का खुलासा करते हुए वाराणसी एसटीएफ ने एक शूटर को गिरफ्तार कर लिया है। अधिवक्ता की हत्या के लिए पांच लाख रुपये की सुपारी होटल मालिक प्रदीप जायसवाल ने अपने एक सहयोगी घनश्याम के माध्यम से दी थी।

वारदात में शामिल दूसरे शूटर की तलाश जारी है। एसटीएफ वाराणसी ने प्रतापगढ़ से बदमाश शमशाद को गिरफ्तार किया तो मामले का राज खुला। शमशाद ने भाड़े के शूटर हायर किये थे। एक शूटर को गिरफ्तार करने में कामयाबी भी एसटीएफ को मिल चुकी है।

एसटीएफ सूत्रों के मुताबिक रामबाग में होटल के पीछे नाले के विवाद से होटल मालिक प्रदीप जायसवाल काफी परेशान था। अधिवक्ता राजेश श्रीवास्तव नगर निगम से लेकर कोर्ट तक शिकायत की थी। मामले में पीआईएल भी दाखिल करने वाला था। प्रदीप ने महेवा के रहने वाले अपने दोस्त घनश्याम वैश्य से राजेश की हत्या के लिए झूंसी में रहने वाले अंजनी श्रीवास्तव से सम्पर्क साधा। अंजनी का पुराना आपराधी रहा है।

उसने प्रतापगढ़ रहने वाले अपने दोस्त शमशाद को यह काम सौंप दिया। शमशाद ने दो शूटर हायर किये, जिसमें विशाल प्रजापति और रईस बताये जा रहे हैं । उन्हें चोरी की बाइक मुहैया कराने के बाद अधिवक्ता की हत्या के लिए रैकी में लगा दिया। वारदात के दिन विशाल बाइक पर पीछे बैठा था।

उसी ने अधिवक्ता को गोली मारी। वहीं दूसरी तरफ होटल मालिक के परिचित घनश्याम और अंजनि की तलाश में पुलिस की टीमों ने कई स्थानों पर दबिस दी। लेकिन अब तक दोनों का कोई सुराग नहीं लग पाया है। वष्ठि पुलिस अधीक्षक कहना है कि पुलिस खुलासे के करीब पहुंच चुकी है। अतिशीघ्र पूरे मामले का खुलासा हो जायेगा। तलाश में लगातार एसटीएफ व अन्य टीमें लगातार ​दबिश दे रही हैं।