उ. कोरिया के परमाणु परीक्षण की चौतरफा निंदा

शेयर करें:

उत्तर कोरिया द्वारा किए हाइड्रोजन बम परीक्षण से पैदा हुए खतरे से निपटने के लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने आज आपात बैठक बुलाई है । भारत ने भी की उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण की निंदा की है।

उत्तर कोरिया ने कल हाईड्रोज़न बम का सफल परीक्षण करने का ऐलान किया है। उत्तर कोरिया ने दावा किया है कि इस हाइड्रोज़न बम को मिसाइल पर लोड किया जा सकता है। खबरों के मुताबिक इस धमाके की ताकत पिछले या पांचवें परीक्षण से 9.8 गुना ज्यादा थी। उत्तर कोरिया इससे पहले 2006, 2009, 2013 और 2016 में परमाणु बमों का परीक्षण कर चुका है।

कल हुआ धमाका इतना शक्तिशाली था कि इसका कंपन रूस के पूर्वी शहर व्लादिवोस्टक तक महसूस किया गया। वहीं जापान के मौसम विभाग के मुताबिक भूकंप के कंपन को जापान में भी महसूस किया गया। जापान ने इस परीक्षण की कड़ी निंदा की है।

उत्तर कोरिया के परमाणु परीक्षण के मुद्दे पर अमेरिका, जापान, ब्रिटेन, फ्रांस तथा दक्षिण कोरिया के आग्रह पर संयुक्त राष्ट सुरक्षा परिषद की आज बैठक बुलाई गई है। यह जानकारी संयुक्त राष्ट्र में नियुक्त अमेरिकी मिशन ने दी। अमेरिका, चीन समेत दुनिया के अन्य देशों के साथ भारत ने भी इस परीक्षण की निंदा की है। इस परीक्षण के चलते चीन में भी भूकंप के झटके महसूस किए गए।

जापान ने जताया विरोध

उत्तर कोरिया ने छठा परमाणु परीक्षण किया। जापान ने प्योंगयांग से कठोर विरोध जताया। परमाणु परीक्षण को अत्यंत अक्षम्य बताया। उत्तर कोरिया ने रविवार को हाईड्रोज़न बम का सफल परीक्षण करने का ऐलान किया है। उत्तर कोरिया ने दावा किया है कि इस हाइड्रोज़न बम को मिसाइल पर लोड किया जा सकता है। उत्तर कोरिया इससे पहले 2006, 2009, 2013 और 2016 में परमाणु बमों का परीक्षण कर चुका है।

रविवार को हुआ धमाका इतना शक्तिशाली था कि इसका कंपन रूस के पूर्वी शहर व्लादिवोस्टक तक महसूस किया गया। वहीं जापान के मौसम विभाग के मुताबिक भूकंप के कंपन को जापान में भी महसूस किया गया। जापान की ट्रोलॉजिकल एजेंसी के हवाले से बताया है कि रविवार के परीक्षण से आया भूकंप पिछले परीक्षण के मुताबिक दस गुना ज़्यादा शक्तिशाली था। 6.3 तीव्रता के भूकंप का मतलब है कि उत्तर कोरिया ने बेहद शक्तिशाली हथियार का परीक्षण किया है।