कनाडा में होगा 17वें विश्व संस्कृत सम्मेलन

शेयर करें:

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर कनाडा के वैंकूवर में 9-13 जुलाई तक आयोजित होने वाले 17वें विश्व संस्कृत सम्मेलन का उद्घाटन करेंगे.

इस सम्मेलन में 500 से अधिक विद्वान और 40 से अधिक देशों के शिष्टमंडल भाग लेंगे और विभिन्न विषयों पर शोध पत्र के द्वारा अपने ज्ञान का आदान-प्रदान करेंगे. इतिहास और वैदिक साहित्य में महिलाओं की शिक्षा, संस्कृत बौद्ध धर्म मनुस्मृति, योगशाला से आगे मीमांशा, युक्तिदीपिका का सांख्य के लिए स्थान गढ़ना, भागवत पुराण टिप्पणीकारों को प्रस्तुत करना, गार्गीया-ज्योतिष पर अनुसंधान जैसे एक दर्जन से अधिक विषयों पर एक विशेष पैनल चर्चा की जाएगी.

पांच दिनों के सम्मेलन के दौरान विभिन्न विषयों पर 500 से अधिक शोध पत्र प्रस्तुत किए जाने की उम्मीद है. इस सम्मेलन का उद्देश्य विश्व भर में लोगों द्वारा संस्कृत भाषा को बढ़ावा देना, संरक्षित करना और व्यवहार में लाना है.

[amazon_link asins=’8170285747,9381957711,9352641817,8174504680,8122448135,8174508104,8174506454,9387672530′ template=’ProductCarousel’ store=’khabarjunction-21′ marketplace=’IN’ link_id=’d52d49a8-8374-11e8-b7b6-416618db879f’]

विश्व संस्कृत सम्मेलन का आयोजन दुनियाभर के विभिन्न देशों में प्रत्येक तीन वर्षों में एक बार किया जाता है और भारत में तीन बार इसका आयोजन किया जा चुका है. मंत्री के अतिरिक्त 17वें विश्व संस्कृत सम्मेलन में भाग लेने वाले भारतीय शिष्टमंडल में 10 विद्वान और दो अधिकारी शामिल हैं.