कारोबारी ने गोली मारकर की आत्महत्या

शेयर करें:

प्रयागराज :फाफामऊ में ,22\10\2018 कर्ज और पारिवारिक कलह से परेशान शराब कारोबारी राजेश कुमार जायसवाल ने गोली मारकर जान दे दी। इससे परिवार में मातम छा गया। पुलिस ने घटनास्थल से असलहा बरामद किया है। साथ ही एक डायरी भी मिली है, जिसमें राजेश ने अपनी परेशानी की बात लिखी है।
फाफामऊ में वाराणसी मार्ग पर रहने वाले जवाहर जायसवाल के पांच बेटों में राजेश (42) सबसे छोटा था। वह प्रयाग वाइन फर्म के नाम पर लाइसेंसी दुकान संचालित करता था। इससे संबंधित आफिस भी उसने खोला था। परिजनों के मुताबिक, राजेश सोमवार सुबह सात बजे घर से पड़ोस में स्थित अपने दफ्तर गया। जब खाना खाने के लिए 11 बजे तक नहीं आया तो पत्नी अनीता ने भतीजे उत्कर्ष को फोन किया। उत्कर्ष दफ्तर पहुंचा तो वहां का नजारा देख दंग रह गया। खून से लथपथ राजेश फर्श पर पड़ा था। घरवाले आनन-फानन उसे अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। खबर पाकर चौकी इंचार्ज फाफामऊ दीपक सिंह व इंस्पेक्टर सोरांव घटनास्थल पर पहुंचे। मौके से 315 बोर का तमंचा बरामद हुआ।इंस्पेक्टर सोरांव सुरेंद्र नाथ ने बताया कि परिजन राजेश से पिछले हिस्से का मकान खाली करवा रहे थे। इसके लिए कई बार उनसे कहा गया था, जिससे वह काफी परेशान था। पत्नी से भी किसी बात को लेकर अनबन चल रही थी। राजेश अपने पैतृक मकान के दूसरे मंजिल पर पत्नी अनीता व 10 वर्षीय बेटे अक्षत के साथ रहते थे लेकिन पिछला हिस्सा उनके पास था। इंस्पेक्टर के अनुसार राजेश ने कई लोगों से कर्ज भी ले रखा था, जिससे चलते मानसिक रूप से परेशान था। दाहिने हाथ से सीने पर मारी गोली पुलिस को पता चला है कि राजेश ने अपने दाहिने हाथ से बाएं सीने पर गोली मारी थी। गोली आर-पार हो गई। उसने तमंचा किससे और कब लिया, यह पता नहीं चल पा रहा है। पुलिस ने बड़े भाई संजय व पिता से पूछताछ की। हालांकि पत्नी से अभी पूछताछ नहीं हो सकी है। इंस्पेक्टर का कहना है कि परिजनों ने कोई आरोप नहीं लगाया है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट से स्थिति और साफ होगी।[ब्यूरो रिपोर्ट प्रयागराज]