सरकार की जनविरोधी नीतियों का प्रतिकार करने 101 संगठनों ने किया शंखनाद

शेयर करें:

जबलपुर। मध्यप्रदेश के विविध राजनीतिक, गैर राजनीतिक, सामाजिक व ट्रेड यूनियनों के संगठनों ने मिलकर संयुक्त जन मोर्चा का निर्माण किया है जिसमे प्रदेश व देश मे वर्तमान सरकार की नीति जोकि सिर्फ उद्योगपतियों के इशारे पर ही कार्य करके जनता को बेहाल कर दिया है, महंगाई चरम पर है व बेरोजगारी ने युवा ही नहीं हर वर्ग को प्रभावित किया है।

इसलिए आज अपराध बढ़ गए हैं और गरीब जनता की सुनवाई कहीं नहीं हो रही है। विविध मुद्दों को लेकर प्रदेश के लगभग 101 संगठनों ने एक विशेष बैठक में अपनी सहमति “संयुक्त जन मोर्चा” के रूप में प्रदान की । सभी संगठन ने मिलकर एक मतेन प्रस्ताव पारित करके सरकार की जनविरोधी नीतियों का प्रतिकार धरना, प्रदर्शन, ज्ञापन, रैली व आंदोलन के रूप में करने का निर्णय लिया।

सभी संगठन “संयुक्त जन मोर्चा” के साथ मिलकर जनता के हित में आवाज़ उठाएंगे। कार्यसमिति ने आगामी कार्यक्रम की रूपरेखा भी तैयार की जिसमे सर्वप्रथम जबलपुर शहर के विधायक व सांसद से आगामी पंचवर्षीय शहरी विकास का मॉडल सार्वजनिक करने उनके निवास घेरने की योजना है।

विविध कार्य योजना व आंदोलन की भी रूपरेखा उक्त बैठक में तैयार की गई । आज की बैठक में विश्व मानवता संघ से देवेंद्र शुक्ला,शैलेन्द्र सिंह,उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच से मनीष शर्मा, राष्ट्रीय किसान मजदूर महासंघ से दीपक पचौरी, राष्ट्रवादी युवा कांग्रेस(NCP) से सीमान्त सिंह सोलंकी, स्मार्ट इंडियन पार्टी से आर के जैन, डॉ अनुजा पटेल नेशनल सुपर पावर पार्टी से, चंद्रप्रकाश भटनागर आरक्षण विरोधी पार्टी से, भरत गुप्ता भारतीय संपूर्ण क्रांतिकारी पार्टी नई दिल्ली से ,ममत्व सेवा संस्था, युवा पत्रकार मित्र संगठन, पृथक महाकौशल राज्य मोर्चा, सवर्ण समाज पार्टी, कछपुरा व्यापारी संघ, फ्लाईओवर पीड़ित संघ, पिछड़ा वर्ग महाकौशल मोर्चा, जनहित सेवा संघ, राकेश चक्रवर्ती, प्रलय राय,अंकुर दुबे व अन्य सदस्य शामिल रहे ।